Thursday, July 2, 2020

विश्व तंबाकू निषध दिवस पर विशेष : मध्यप्रदेश में तंबाकू बनता है हर साल 90 हजार लोगों की मौत का कारण

Must read

कोविड-19 प्रभाव : कान्स फिल्म फेस्टिवल स्थगित

पेरिस, 20 मार्च (आईएएनएस)। दुनियाभर में कोरोनावायरस के भयंकर प्रकोप को देखते हुए कान्स फिल्म फेस्टिवल के 73वें संस्करण को टाल दिया गया है।डेडलाइन...

बिकवाली के दबाव में सेंसेक्स 242 अंक टूटा, निफ्टी 9200 के नीचे (राउंडअप)

मुंबई, 7 मई (आईएएनएस)। भारतीय शेयर बाजार में गुरुवार को बिकवाली के दबाव में सेंसेक्स पिछले सत्र से 242.27 अंकों यानी 0.76 फीसदी की...

जेल ब्रेक वेब सीरीज में राहुल देव नए अवतार में नजर आए

मुंबई, 6 मार्च (आईएएनएस)। अभिनेता राहुल देव वेब सीरीज ऑपरेशन परिंदे में बिल्कुल नए अवतार में दिखाई दे रहे हैं। यह कहानी भारत के...

एन हैथवे फ्रेंच चिल्ड्रन डोंट थ्रो फूड में नजर आएंगी

लॉस एंजेलिस, 31 मार्च (आईएएनएस)। हॉलीवुड अभिनेत्री एन हैथवे फ्रेंच चिल्ड्रन डोंट थ्रो फूड के एडेप्टेशन में नजर आने के लिए तैयार हैं। हॉलीवुडरिपोर्टर...
- Advertisement -

भोपाल। मध्यप्रदेश में तंबाकू (Madhyapradesh Tobacco) की बढ़ती लत कई गंभीर बीमारियों का कारण बनती जा रही है। राज्य में हर साल लगभग एक लाख बच्चों और युवाओं (Youth) द्वारा किसी न किसी रूप में तंबाकू (Tobacco) के सेवन की शुरुआत कर दी जाती है वहीं लगभग 90 हजार लोगों की मौत का कारण तंबाकू जनित बीमारी बनती है।

वर्ल्ड नो टोबेको डे : युवाओं को तंबाकू इंडस्ट्री के हथकंडो से बचाने की अपील: स्वास्थ्य विशेषज्ञ

- Advertisement -

केंद्र व राज्य सरकारों द्वारा उठाए गए कई एहतियाती कदमों के बावजूद तंबाकू उत्पाद कंपनियों (Tobacco Companies) द्वारा कई लुभावने तरीके अपनाए जाते हैं और उसका नतीजा है कि युवाओं और नई पीढ़ी में तंबाकू का उपयोग करने की प्रवृत्ति बढ़ रही है। वर्तमान में तंबाकू उपयोगकर्ता कोरोना संक्रमण (Corona Virus) फैलाने का कारण बन सकते हैं, लिहाजा राज्य में सार्वजनिक स्थलों पर थूकने पर जुर्माने का प्रावधान किया गया है।

विश्व तम्बाकू निषेध दिवस : हर तीसरा वयस्क भारतीय एक गंभीर बीमारी से जूझ रहा: डा.चतुर्वेदी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने वर्ष 2020 में वर्ल्ड नो टोबेको डे (विश्व तंबाकू निषेध दिवस) (World No tobacco Day) की थीम युवाओं को तंबाकू इंडस्ट्री के हथकंडे से बचाना और उन्हें तंबाकू और निकोटिन के इस्तेमाल से रोकना रखा है। इस दौरान युवा वर्ग को किसी भी तरह के तम्बाकू का उपयोग करने से हतोत्साहित करने के लिए जागरूकता कार्यक्रम पर जोर दिया जाएगा।

यूनाइटेड डॉक्टर्स फेडरेशन के महासचिव डॉ. ललित श्रीवास्तव ने कहा, तंबाकू का धुआं इनडोर प्रदूषण का बहुत खतरनाक रूप है, क्योंकि इसमें सात हजार से अधिक रसायन होते हैं, जिनमें से 69 रसायन कैंसर का कारण बनते हैं। तंबाकू का धुआं पांच घंटे तक हवा में रहता है, जो फेफड़ों के कैंसर, सीओपीडी और फेफड़ों के संक्रमण को बढ़ाता है।

- Advertisement -

एकांतवास केंद्र बना मिसाल, संगीत व योग के साथ लोगों को मिल रहा उनकी पसंद का खाना

उन्होंने आगे कहा धूम्रपान(Smoking) करने वालों को कोरोना संक्रमण का खतरा भी अधिक है, क्योंकि वह बार-बार सिगरेट व बीड़ी को मुंह में लगाते हैं। धूम्रपान करने वालों के फेफड़ों की कार्य-क्षमता भी कम हो जाती है, जिससे कोरोना संक्रमण होने पर मौत की संभावना कई गुणा तक बढ़ जाती है।

डॉ़ श्रीवास्तव बतातें है कि जब कोई व्यक्ति सिगरेट का सेवन करता है, तो उसका धुंआ शरीर के अच्छे कोलेस्ट्रल को घटा देता है और बुरे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ा देता है। इस कारण हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। वहीं तंबाकू के सेवन से पुरुषों के शुक्राणु और महिलाओं के अंडाणु बनाने की क्षमता कमजोर होती है। वहीं, प्रेगनेंसी के दौरान अगर माता-पिता सिगरेट पीते हैं या तंबाकू का सेवन करते हैं तो इससे बच्चे के दिमाग और स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।

झारखंड के बाद अब इस राज्य में Zomato घर तक पहुंचाएगी शराब

- Advertisement -

राज्य में युवाओं में तंबाकू सेवन का प्रचलन पिछले कुछ सालों में बढ़ा है। ग्लोबल एडल्ट टोबेको सर्वे के अनुसार वर्ष 2009-10 में 12़ 3 प्रतिशत युवा तंबाकू का सेवन कर रहे थे जो 2016-17 में बढ़कर 13़1 प्रतिशत हो गया।

तंबाकू नियंत्रण (Tobacco Control) के क्षेत्र में काम करने वाले विशेषज्ञ डॉ.सोमिल रस्तोगी ने बताया कि राज्य में तंबाकू व अन्य धूम्रपान उत्पादों से होने वाले रोगों से प्रतिवर्ष 90 हजार से अधिक लोगों की मौत हो जाती है, वहीं एक लाख आठ हजार से अधिक बच्चे व युवा तंबाकू के सेवन की शुरुआत करते हैं। इस तरह राज्य में हर रोज औसत 300 बच्चे तंबाकू के सेवन की शुरुआत करते हैं।

ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे 2017(Global Adult Tobacco Survey 2017) के अनुसार, भारत में 15 वर्ष से अधिक उम्र के युवाओं का बड़ा वर्ग वर्तमान में किसी न किसी रूप में तंबाकू का उपयोग कर रहा है, ऐसे वयस्कों की संख्या 28़ 6 प्रतिशत (27 करोड़) है। युवाओं को इससे बचाने के लिए तंबाकू उद्योगों द्वारा अपने उत्पादों के प्रति आकर्षित करने के प्रयासों पर प्रभावी अंकुश, बच्चों व युवाओं को निरंतर तंबाकू से होने वाले दुष्प्रभाव के प्रति जागरूक करने तथा तंबाकू उत्पादों के विज्ञापनों पर भी रोक लगाने की जरूरत है।

सर्वेक्षण रिपोर्ट बताती है कि अधिकतर युवा वर्ग शैक्षणिक संस्थानों में शिक्षा ग्रहण करते समय ही इन तंबाकू उत्पादों (Tobacco Products) का सेवन शुरू कर देता है। बच्चों व युवाओं को तंबाकू की पहुंच से दूर रखने के लिए तंबाकू नियंत्रण अधिनियम 2003 तथा किशोर न्याय अधिनियम की धारा 77 की प्रभावी तौर पर पालन कराने की जरूरत है। ऐसा इसलिए क्योंकि जब शिक्षण संस्थाओं (Education Institute) के आसपास तंबाकू उत्पाद ही नहीं मिलेंगे तो बच्चों में इसके प्रति आकर्षण भी नहीं हेागा।

–आईएएनएस

www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.

- Advertisement -

Latest article

भारत ने चीन के साथ सीमा गतिरोध के बीच लड़ाकू विमानों की खरीद को मंजूरी दी

नई दिल्ली, 2 जुलाई (आईएएनएस)। चीन के साथ सीमा पर जारी तनावपूर्ण हालात के बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को 12 सुखोई-30एमकेआई और...

हाफिज सईद कहने पर इरफान ने ट्विटर यूजर को आड़े हाथों लिया

नई दिल्ली, 2 जुलाई (आईएएनएस)। भारतीय टीम के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी इरफान पठान ने गुरुवार को एक ट्विटर यूजर को उन्हें अगला हाफिज सईद...

बिहार में वज्रपात से 17 लोगों की मौत

पटना, 2 जुलाई (आईएएनएस)। बिहार में गुरुवार को एकबार फिर आकाशीय बिजली (वज्रपात) गिरने से 17 लोगों की मौत हो गई। हालांकि अपुष्ट खबरों...

राजस्थान : पुलिस के रेस्पोंस टाइम में सुधार आएगा और अपराध नियंत्रण में मदद मिलेगी : मुख्यमंत्री

194 नए वाहनों से जयपुर पुलिस का रेस्पोंस टाइम होगा बेहतर मुख्यमंत्री ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना जयपुर। गश्त को बेहतर बनाने तथा क्विक...

कैम्पस फिर से खुलने पर भी छात्र ऑनलाइन पढ़ाई कर सकेंगे : अहमदाबाद यूनिवर्सिटी

अहमदाबाद, 2 जुलाई (आईएएनएस)। कोविड-19 महामारी के बीच, अहमदाबाद यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने वाले छात्र इस साल दिसंबर तक ऑनलाइन कक्षाओं में शामिल होने...