Thursday, July 9, 2020

नोएडा : जिला अस्पताल की सीएमएस का तबादला

Must read

राजस्थानी टच के साथ कोरोनावायरस पर देसी गाना

नई दिल्ली, 8 अप्रैल (आईएएनएस)। कोविड-19 के इस प्रकोप के बीच इंडो-वेस्टर्न फ्यूजन बैंड स्वराग ने एक नए गाने की पेशकश की है, जिसका...

देशभर में 1 अप्रेल 2016 से तंबाकू उत्पादेां पर 85 प्रतिशत सचित्र चेतावनी 

जयपुर । देशभर में 1 अप्रेल 2016 से तंबाकू उत्पादों पर 85 प्रतिशत सचित्र चेतावनी को लागू किया गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार...

निर्बाध खाद्यान्नों की आपूर्ति कर रहा एफसीआई : पासवान

नई दिल्ली, 28 मार्च (आईएएनएस)। केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने शनिवार को कहा कि भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई)...

जान्हवी कपूर को आई डांस क्लास की याद, साझा किया वीडियो

मुंबई , 13 अप्रैल (आईएएनएस)। अभिनेत्री जान्हवी कपूर 2006 में आई फिल्म उमराव जान के लोकप्रिय गीत सलाम पर थिरकती नजर आईं हैं।दरअसल लॉकडाउन...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

गौतमबुद्धनगर, 29 जून (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के नोएडा जिला अस्पताल की सीएमएस डॉ. वंदना शर्मा का तबादला कर दिया गया है। उन्हें गाजियाबाद के एमएमजी अस्पताल में वरिष्ठ परामर्शदाता के पद पर भेजा गया है। हालांकि इस तबादले को 5 जून को गाजियाबाद के खोड़ा की निवासी एक गर्भवती महिला की मौत के मामले से जोड़ा जा रहा है।

नोएडा के सेक्टर-30 स्थित जिला अस्पताल के नए सीएमएस कार्यभार अब डॉ. वी.बी. ढाका ने संभाल लिया है।

- Advertisement -

इससे पहले, गर्भवती महिला की मौत पर डीएम की रिपोर्ट में ईएसआईसी के डायरेक्टर डॉ. अनीस सिंघल और सीएमएस डॉ. वंदना शर्मा की लापरवाही की बात सामने आई थी। इसके बाद ईएसआईसी डायरेक्टर का तबादला किया गया था। डीएम ने लापरवाही करने वालों पर सख्त कार्रवाई करने की बात कही थी। डॉ. वंदना शर्मा का तबादला भी उसी कार्रवाई का हिस्सा बताया जा रहा है।

जिले के सीएमओ डॉ. दीपक ओहरी ने आईएएनएस से कहा, मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। वो गाजियाबाद की रहने वाली हैं तो हो सकता है कि उन्होंने अपना तबादला खुद करा लिया हो।

दरअसल, 5 जून को गाजियाबाद के खोड़ा निवासी गर्भवती महिला को 8 अस्पतालों ने इलाज करने से मना कर दिया था। महिला की एम्बुलेंस में ही मौत हो गई थी और साथ ही गर्भ में पल रहे बच्चे ने भी दम तोड़ दिया था। डीएम ने गर्भवती महिला की मौत के मामले पर एक जांच समिति भी गठित की थी। जांच समिति की रिपोर्ट में कई लोगों की लापरवाही की बात सामने आई थी। वहीं जिन प्राइवेट अस्पतालों ने गर्भवती महिला को भर्ती करने से मना किया था, उनपर भी कार्रवाई की बात डीएम ने कही थी।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बिहार में बाढ़ की आशंका को लेकर अलर्ट, बचाव के लिए होगा ड्रोन का उपयोग

पटना, 8 जुलाई (आईएएनएस)। बिहार में बाढ़ की आशंका को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आपदा प्रबंधन विभाग को पूरी तरह अलर्ट रहने...

रीवा के सौर ऊर्जा संयंत्र से दिल्ली मेट्रो को मिलेगी बिजली

भोपाल, 8 जुलाई (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के रीवा जिले में स्थापित एशिया के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर प्रोजेक्ट की...

कानपुर मुठभेड़ पर बोले एडीजी प्रशांत, पुलिस की कार्रवाई बनेगी नज़ीर

लखनऊ 8 जुलाई (आईएएनएस)। कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव मे उत्तर प्रदेश पुलिस के सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद...

कभी कभी कड़वा घूंट पीकर करनी पड़ती है समाज सेवा : विजयवर्गीय

भोपाल/इंदौर 8 जुलाई (आईएएनएस)। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए नेताओं के साथ काम करने का जिक्र करते...

पहले एलएसी तक पहुंचने में 14 दिन लगते थे, अब महज 1 दिन : लद्दाख स्काउट्स (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

लेह, 8 जुलाई (आईएएनएस)। वर्ष 1962 में जहां भारतीय सेना को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) तक पहुंचने में 16 से 18 दिन का समय...