Thursday, July 9, 2020

भारतीय-अमेरिकी उम्मीदवार का अदालत से मतगणना की निगरानी का आग्रह

Must read

कोरनावायरस : बेहतर महसूस कर रहे हैं इद्रिस एल्बा

लॉस एंजेलिस, 1 अप्रैल (आईएएनएस)। ब्रिटिश अभिनेता इद्रिस एल्बा का कहना है कि कोरोनावायरस संक्रमित होने के बाद अब उनमें और उनकी पत्नी सबरीना...

एक्जिट पोल में आम चुनाव में नेतन्याहू की जीत

जेरूसलम, 3 मार्च (आईएएनएस)। इजरायल के आम चुनाव में कई एग्जिट पोल ने देश के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की जीत दिखाई है, जबकि उनके...

संविधान की शपथ लेकर हुई शादी

सीहोर, 17 फरवरी (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के सीहोर जिले में एक अनोखी शादी हुई। इसमें ना तो फेरे हुए, न ही अन्य वैवाहिक रस्में...

जमशेदपुर को 5-0 से हराकर गोवा एएफसी चैंपियंस लीग के ग्रुप चरण में

जमशेदपुर, 19 फरवरी (आईएएनएस)। हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के छठे सीजन के सेमीफाइनल में पहले ही जगह बना चुकी एफसी गोवा बुधवार को...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

न्यूयार्क, 30 जून (आईएएनएस)। कांग्रेस सीट के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी के नामांकन के दावेदार एक भारतीय-अमेरिकी उम्मीदवार ने अदालत से मतों की गिनती की निगरानी करने का आग्रह किया है। डेमोक्रेटिक पार्टी के लिए सुरक्षित समझी जाने वाली इस सीट की दावेदारी के चुनाव में यह उम्मीदवार मतों की जारी गिनती में केवल 1.6 प्रतिशत मतों से पीछे है।

डेमोक्रेटिक पार्टी के प्राइमरी (उम्मीदवार के चयन के लिए पार्टी का आंतरिक चुनाव) में सूरज पटेल का मुकाबला प्रतिनिधि सभा की मौजूदा सदस्य कैरोलिन मैलोनी से है। पार्टी के नामांकन के लिए प्राइमरी चुनाव के परिणाम का निर्धारण एबसेंटी मत (आधिकारिक मतदान स्थल पर मतदान के बजाए पोस्टल या आनलाइन दिए जाने वाले मत) करेंगे जिनकी गिनती इस हफ्ते होनी है।

- Advertisement -

23 जून को मतदान स्थल पर डाले गए मतों में से पटेल को 15,825 मिले, जो कि मैलोनी को मिले 16,473 के मुकाबले केवल 648 कम है।

लगभग 39,000 एबसेंटी मत हैं जिनकी गिनती होनी है। इस बार कोविड-19 महामारी के कारण इन मतों की संख्या ज्यादा है क्योंकि बड़ी संख्या में मतदाताओं ने एहतियातन मतदान स्थल जाना उचित नहीं समझा।

प्राइमरी चुनाव में कई अनियमितताओं की सूचना मिली है। ऐसी शिकायतें मिलीं कि कुछ मतदाताओं को अधूरे मतपत्र दिए गए थे, कुछ मतदाता एबसेंटी मतपत्रों को प्राप्त करने में विफल रहे और कुछ ने पाया कि उनका मतदान केंद्र बदल गया है।

पटेल के चुनाव अभियान प्रबंधन ने न्यूयॉर्क स्टेट सुप्रीम कोर्ट में मामला दायर कर निगरानी का आग्रह किया है।

- Advertisement -

पटेल ने एमएसएनबीसी टीवी से कहा, मतदाता को दबाना एक वास्तविक चीज है। और, यह सिर्फ रिपब्लिकन (पार्टी) असर वाले राज्यों में ही हकीकत नहीं है बल्कि डेमोक्रेटिक पार्टी के असर वाले राज्यों में भी है। हम हर एक वोट के लिए अपनी पूरी शक्ति से लड़ेंगे।

यदि पटेल प्राइमरी जीतते हैं तो नवंबर में आम चुनाव में उनका चुना जाना लगभग तय है क्योंकि वह न्यूयार्क के जिस निर्वाचन क्षेत्र से लड़ेंगे, उसे डेमोक्रेटिक पार्टी का गढ़ माना जाता है।

पटेल कारोबारी व वकील होने के साथ-साथ न्यूयार्क यूनिवर्सिटी में बिजनेस एथिक्स भी पढ़ाते हैं।

एक अन्य भारतीय-अमेरिकी जेनिफर राजकुमार भी न्यूयॉर्क डेमोक्रेटिक प्राइमरी में आगे हैं। वह न्यूयार्क शहर से न्यूयॉर्क स्टेट एसेंबली सीट के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी दावेदार हैं।

- Advertisement -

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

बिहार में बाढ़ की आशंका को लेकर अलर्ट, बचाव के लिए होगा ड्रोन का उपयोग

पटना, 8 जुलाई (आईएएनएस)। बिहार में बाढ़ की आशंका को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आपदा प्रबंधन विभाग को पूरी तरह अलर्ट रहने...

रीवा के सौर ऊर्जा संयंत्र से दिल्ली मेट्रो को मिलेगी बिजली

भोपाल, 8 जुलाई (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के रीवा जिले में स्थापित एशिया के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर प्रोजेक्ट की...

कानपुर मुठभेड़ पर बोले एडीजी प्रशांत, पुलिस की कार्रवाई बनेगी नज़ीर

लखनऊ 8 जुलाई (आईएएनएस)। कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव मे उत्तर प्रदेश पुलिस के सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद...

कभी कभी कड़वा घूंट पीकर करनी पड़ती है समाज सेवा : विजयवर्गीय

भोपाल/इंदौर 8 जुलाई (आईएएनएस)। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए नेताओं के साथ काम करने का जिक्र करते...

पहले एलएसी तक पहुंचने में 14 दिन लगते थे, अब महज 1 दिन : लद्दाख स्काउट्स (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

लेह, 8 जुलाई (आईएएनएस)। वर्ष 1962 में जहां भारतीय सेना को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) तक पहुंचने में 16 से 18 दिन का समय...