Thursday, July 9, 2020

सिंदूर लगाने से मना करना शादी की उपेक्षा दर्शाता है : गुवाहाटी हाईकोर्ट

Must read

राजस्थान : टिड्डी नियंत्रण के लिए भारत सरकार पड़ौसी देशों से करे समन्वय

प्रदेश के किसानों के हित में मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने...

उप्र : पांचवीं पत्नी ने संत के खिलाफ दर्ज कराया दुष्कर्म का मुकदमा

शाहजहांपुर, 9 फरवरी (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में शाहजहांपुर जिले के निगोही कस्बे के एक तथाकथित संत के खिलाफ उसकी पांचवीं पत्नी ने पुलिस थाने...

Defense Expo 2020 : डिफेंस एक्सपो में स्वदेशी हथियारों की रहेगी धूम

लखनऊ। यहां बुधवार से डिफेंस एक्सपो (Defense Expo 2020 Lucknow)का आयोजन होने जा रहा है, जिसमें स्वदेशी हथियार की धूम रहेगी। हथियारों के सबसे...

नई दिल्ली से शंघाई जा रहे विमान से टकराया बैगेज वाहन

नई दिल्ली। इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर शनिवार को एयर इंडिया (Air India Delhi to Sanghai)के शंघाई जा रहे विमान संख्या एआई-348 के...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

गुवाहाटी, 30 जून (आईएएनएस)। गुवाहाटी हाईकोर्ट ने एक ऐसे व्यक्ति के तलाक को मंजूरी दे दी, जिसकी पत्नी ने देश के पूर्वी हिस्से में प्रचलित हिंदू संस्कृति का पालन करने से इनकार कर दिया था। महिला ने मांग में सिंदूर लगाने और शंख कड़ा पहनने से इंकार किया था।

असम की शीर्ष अदालत ने कहा कि हिंदू विवाहित महिला के बीच परंपरा और रिवाज के रूप में शंख (शंख कड़ा) पहनने और सिंदूर लगाने का प्रचलन है। याचिकाकर्ता की पत्नी द्वारा ऐसा न करना एक तरह से शादी को अस्वीकार करने जैसा है।

- Advertisement -

मुख्य न्यायाधीश अजय लांबा और न्यायमूर्ति सौमित्र सैकिया की पीठ ने कहा,एक महिला जो हिंदू रीति-रिवाजों अनुसार विवाह में प्रवेश करती है, और जिसे उसके प्रमाण में उत्तरदायी (महिला) द्वारा इनकार नहीं किया गया है, उसके द्वारा शंख कड़ा पहनने और सिंदूर लगाने से मना करना उसे अविवाहित की तरह दर्शाएगा / या अपीलकर्ता (पुरुष) के साथ शादी को स्वीकार करने से इनकार को दर्शाएगा।

इसने कहा कि महिला का यह रुख स्पष्ट संकेत है कि वह याचिकाकर्ता के साथ अपनी शादीशुदा जिदंगी को आगे बढ़ाने की इच्छुक नहीं है।

अदालत ने कहा कि ऐसी स्थिति में पत्नी के साथ शादी के बंधन में बंधे रहने के लिए मजबूर करना उसके लिए तकलीफदेह होगा।

जोड़े ने 17 फरवरी 2012 को शादी की थी, लेकिन थोड़े समय बाद ही दोनों में झगड़े होने लगे और महिला ने पति और उसके परिवार वालों के साथ रहने से मना कर दिया। दोनों 30 जून 2013 से अलग रह रहे हैं।

- Advertisement -

महिला ने पति और उसके परिवार के खिलाफ प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए पुलिस में कई शिकायतें भी दर्ज कराई, लेकिन अदालत ने इस दावे को नहीं माना।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

रकुल प्रीत सिंह ने पिता संग बैडमिंटन खेला

नई दिल्ली, 9 जुलाई (आईएएनएस)। अभिनेत्री रकुल प्रीत सिंह इस समय अपने परिवार के साथ दिल्ली में समय बिता रही हैं। इस दौरान उन्होंने...

एलएसी से सैनिकों को हटाने पर भारत, चीन सैन्य वार्ता अगले सप्ताह

नई दिल्ली, 9 जुलाई (आईएएनएस)। शीर्ष भारतीय और चीनी सैन्य अधिकारी पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील और डेपसांग क्षेत्रों में तनाव कम करने के...

यस बैंक मामला : ईडी ने राणा कपूर की 2203 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की (लीड-1)

नई दिल्ली, 9 जुलाई (आईएएनएस)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने धनशोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर, उनके परिवार, दीवान...

कोविड: दिल्ली में 563 कंटेनमेंट जोन, 24 घंटे में 105 इलाके सील, 45 की मौत

नई दिल्ली, 9 जुलाई (आईएएनएस)। बीते 24 घंटे के अंदर ही दिल्ली में 105 से अधिक नए कोरोना कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। दिल्ली...

उप्र में कोरोना के 1248 नए मामले, अब तक 862 मौतें

लखनऊ, 9 जुलाई (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। गुरुवार को राज्य के बीते 24 घंटे में प्रदेश में...