Friday, July 10, 2020

भारत और चीन के बीच 12 घंटे तक चली बात

Must read

बैंक ऑफ बड़ौदा व जनसहयोग से आरवाईएफ ने एक हजार परिवारों को बांटे वस्त्र

जयपुर। राजस्थान यूथ फाउंडेशन (आरवाईएफ) की ओर से रविवार को सूत मील कच्ची बस्ती, रेलवे स्टेशन के पाास स्थित राजकीय माध्यमिक विद्यालय में स्वेटर व...

कोविड-19 के लिए लेडी गागा के कॉन्सर्ट संग जुड़े शाहरुख, प्रियंका

लॉस एंजेलिस, 7 अप्रैल (आईएएनएस)। बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान और प्रियंका चोपड़ा जोनस के साथ-साथ बिली इलिश और पॉल मैकार्टनी जैसे नाम पॉप स्टार...

भाजपा ने 9 करोड़ फूड पैकेट्स, 2 करोड़ से अधिक लोगों को राशन उपलब्ध कराए : नड्डा

नई दिल्ली, 9 मई (आइएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष जे.पी. नड्डा शनिवार को यहां कहा कि कोरोनावायरस के प्रकोप के कारण लागू...

टीसीएस वर्ल्ड बेंगलुरू मैराथन 22 नवंबर को

बेंगलुरू, 9 मई (आईएएनएस)। प्रोकैम इंटरनेशनल ने शनिवार को बताया है कि वर्ल्ड एथलेटिक्स गोल्ड लेबल रेस, टाटा कंसल्टेंसी सर्विस वर्ल्ड 10 हजार मैराथन...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

नई दिल्ली, 1 जुलाई (आईएएनएस)। पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद को हल करने के लिए भारत और चीनी सैन्य अधिकारियों के बीच 12 घंटे तक बातचीत चली। सूत्रों ने इस बात की जानकारी दी।

सुबह 10.30 बजे शुरू हुई बैठक मंगलवार रात के 11 बजे समाप्त हुई।

- Advertisement -

दोनों पक्षों के बीच यह बैठक चुशूल में हुई हालांकि मिली जानकारी के मुताबिक, इसका कोई प्रभावी नतीजा सामने निकलकर नहीं आया है।

यह दोनों पक्षों के बीच हुई तीसरी बैठक है। कॉर्प कमांडर स्तर पर पिछली दो बैठकें 6 जून और 22 जून को हुई थीं।

मंगलवार को इस बैठक का आयोजन भारत की तरफ चुशूल में किया गया जबकि पहले की दो बैठकें चीन की तरफ मोल्डो में हुई थी।

सूत्र के मुताबिक, मौजूदा गतिरोध के दौरान सभी विवादास्पद क्षेत्रों में स्थिति को स्थिर करने की दिशा में चचार्एं हुईं।

- Advertisement -

चीन पैंगॉन्ग स्तो में वापस लौटने के लिए तैयार हो गया था, लेकिन वह गए नहीं। भारत ने फिंगर 8 पर वास्तविक नियंत्रण रेखा का दावा किया और चीनी फिंगर 4 और 5 प्वॉइंट एस के बीच बैठे हैं।

देपसंग और देमचोक में इसी तरह की भिन्नता है।

22 जून को भी बातचीत लगभग 11 घंटे तक चली और दोनों पक्षों के बीच एक आपसी सहमति भी बनी।

भारतीय सेना ने कहा था कि पूर्वी लद्दाख में सभी विवादास्पद क्षेत्रों से पीछे हटने की बात पर चर्चा की गई थी।

- Advertisement -

बैठक में जहां भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने किया, वहीं चीनी पक्ष का नेतृत्व तिब्बत सैन्य जिला के मेजर जनरल लियु लिन ने किया।

इस दौरान गलवान घाटी पर हुए हमले पर भी बात की गई थी, जिसमें भारत के बीस जवान शहीद हुए हैं।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

वांग यी ने चीन अमेरिका संबंधों के लिए तीन सुझाव दिए

बीजिंग, 9 जुलाई (आईएएनएस)। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने चीन अमेरिका थिंक टैंक तथा मीडिया वीडियो कांफ्रेंसिंग मंच पर चीन अमेरिका संबंधों के...

सैन्य तानाशाहों ने जनता का चरित्र बिगाड़ दिया : हसीना

ढाका, 9 जुलाई (आईएएनएस)। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने देश के पूर्ववती सैन्य तानाशाहों को जनता का चरित्र बिगाड़ने के लिए जिम्मेदार ठहराया...

गुजरात में कोरोना के मामले 39 हजार के पार, 2 हजार से ज्यादा मौतें

गांधीनगर, 9 जुलाई (आईएएनएस)। गुजरात में गुरुवार को कोरोना के 861 नए मामले सामने आने से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 39,280 हो गई।...

बीकानेर शहर के चार पुलिसथाना क्षेत्र के कुछ हिस्से में धारा 144 लागू

बीकानेर(Bikaner News)। कोरोनावायरस संक्रमण (Corona Virus) के प्रसार को रोकने के लिए अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (सिटी) सुनीता चौधरी ने सोमवार को एक आदेश जारी...

नोएडा प्राधिकरण ने 162 ईवी चार्जिग स्टेशन स्थापित करने ईईएसएल के साथ समझौता किया

गौतमबुद्धनगर, 9 जुलाई (आईएएनएस)। नोएडा प्राधिकरण ने शहर में 162 ईवी चार्जिग यूनिट और संबंधित इंफ्रास्ट्रक्च र स्थापित करने के लिए एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज...