Monday, July 6, 2020

राहुल गांधी ने नर्सों से कहा, आप एक अहिंसक सेना हैं

Must read

खर्च बढ़ने से आगामी वित्त वर्ष में बना रहेगा राजकोष पर भार

नई दिल्ली, 26 जनवरी (आईएएनएस)। खर्च बढ़ने से अगले वित्त वर्ष में भी राजकोष को लेकर सरकार की चिंता बनी रह सकती है। कर...

महाराष्ट्र के वर्धा में जलाई गई लेक्चरर ने दम तोड़ा

नागपुर, 10 फरवरी (आईएएनएस)। एक सिरफिरे शख्स द्वारा सार्वजनिक रूप से जलाई गई 24 वर्षीय वर्धा की एक लेक्चरर ने सोमवार को ठीक एक...

उप्र : 12 साल के बच्चे की हत्या कर शव जंगल में फेंका

चित्रकूट, 26 अप्रैल (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में चित्रकूट जिले के मानिकपुर थाना के अहिरी गांव में शनिवार की शाम एक 12 साल के बच्चे...

जयपुर : शिल्पशाला बनी गुरु शिष्य की परंपरा को आगे बढ़ाने का सशक्त माध्यम

जयपुर। जयपुरवासियों में परंपरागत शिल्प कला को सीखने की इस कदर ललक देखने को मिल रही है कि शिल्पशाला में गुर सीखा रहे शिल्प...
Vishal Rohiwal
Vishal Rohiwal
विशाल रोहिवाल पिछले दस वर्ष से कंटेट राईटिंग व स्वतंत्र पत्रकार के रुप में काम कर रहें है। वर्तमान में हैलो राजस्थान की वेब टीम में सीनियर कंटेंट एडिटर के रुप में अपनी सेवांए दे रहें है।
- Advertisement -

नई दिल्ली, 1 जुलाई (आईएएनएस)। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को चार नर्सों के साथ बातचीत की और उन्हें नॉन-वॉयलेंट आर्मी यानी अहिंसक सेना कहा। उन्होंने जिन नर्सों से बात की, उनमें से तीन भारतीय मूल के हैं, लेकिन दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इन नर्सों ने कोरोना के खिलाफ जंग में फ्रंटलाइन वारियर्स के तौर पर अपने अनुभव साझा किए।

बातचीत के दौरान दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में काम करने वाले विपिन कृष्णन ने कहा, नर्स और डॉक्टर केंद्र सरकार के जोखिम भत्ता श्रेणी में नहीं आते हैं। जबकि इस समय कोविड-19 के खिलाफ हम फ्रंटलाइन पर लड़ाई लड़ रहे हैं। मैं अपनी सेना के साथ इसकी तुलना नहीं कर रहा हूं। लेकिन मुझे लगता है कि आप इस बात से सहमत होंगे कि हम एक सेना के रूप में लड़ रहे हैं। इसके जवाब में, राहुल गांधी ने कहा, हां, आप एक अहिंसक सेना हैं।

- Advertisement -

ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स में कार्यरत राजस्थान के सीकर के निवासी नरेंद्र सिंह ने कहा कि सभी ने शुरू में कोविड-19 को एक साधारण फ्लू समझा और इसे गंभीरता से नहीं लिया।

सिंह ने कहा, लेकिन जब यह तेजी से फैलने लगा और इटली में मृतकों की बढ़ती संख्या देखी तब हमने सोचा कि यह फ्लू नहीं है, यह गंभीर बीमारी है।

न्यूजीलैंड में काम करने वाली एक अन्य भारतीय मूल की नर्स अनु रागनत ने कहा कि प्रधानमंत्री जसिंडा आर्डन द्वारा अपनाई गई कठिन नीतियों ने इस देश में कोरोना पर काबू पाने में मदद की।

लंदन में एक्यूट मेडिकल यूनिट में काम करने वाले शलिलमॉल पुरावदी ने बताया, शुरू में बहुत डर था। क्या हर मरीज कोविड-19 के लक्षण के साथ आ रहा है या नहीं? इस सबको लेकर बहुत सतर्कता से नीति बनाई और काम किया।

- Advertisement -

गौरतलब है कि इससे पहले भी राहुल गांधी आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन, नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी, महामारीविद जोहान गिसेके और उद्योगपति राजीव बजाज के साथ वीडियोकांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत कर चुके हैं।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार के बाद विभाग वितरण पर किच-किच

भोपाल 5 जुलाई (आईएएसएस)। मध्य प्रदेश में लंबी जद्दोजहद के बाद शिवराज सिंह चौहान सरकार के मंत्रिमंडल का दूसरा विस्तार आखिरकार हो ही गया,...

उप्र : पुलिसकर्मियों का हत्यारा और विकास दुबे का साथी गिरफ्तार (लीड-1)

कानपुर, 5 जुलाई (आईएएनएस)। कानपुर पुलिस ने रविवार की सुबह एक संक्षिप्त मुठभेड़ के बाद विकास दुबे गिरोह के एक सदस्य को गिरफ्तार कर...

कोहली पर हितों के टकराव का मामला, गुप्ता ने बीसीसीआई लोकपाल को लिखा

नई दिल्ली, 5 जुलाई (आईएएनएस)। लोढा समिति ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के संविधान को फिर से लागू करते हुए स्पष्ट रूप से...

कार दुर्घटना मामले में श्रीलंकाई क्रिकेटर मेंडिस गिरफ्तार : रिपोर्ट

कोलंबो, 5 जुलाई (आईएएनएस)। श्रीलंका के विकेटकीपर बल्लेबाज कुसल मेंडिस को कार दुर्घटना मामले में रविवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। क्रिकइंफो की...

कोरोना प्रभावित समुदाय की मदद को आगे आईं पेंट कंपनियां

नई दिल्ली, 5 जुलाई (आईएएनएस)। कोविड-19 के कारण अभी भी देश के कई हिस्सों में बंद और प्रतिबंध लागू हैं, जिसका बाजार पर व्यापक...