Thursday, July 9, 2020

राजस्थान के घड़साना व सूरतगढ़ में 25 साल बाद दिखेगा वलयाकार सूर्यग्रहण

Must read

ब्रायन एडम्स ने नस्लवादी टिप्पणी के लिए माफी मांगी

लॉस एंजेलिस, 13 मई (आईएएनएस)। कनाडाई रॉक स्टार ब्रायन एडम्स ने अपनी नस्लवादी टिप्पणी के लिए माफी मांगी है। दरअसल कोविड-19 महामारी के कारण...

कोरोनावायरस से भारत में 5 मौतें, 341 मामले : स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्ली, 22 मार्च (आईएएनएस)। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को कहा कि कोरोनावायरस से भारत में अब तक 5 मौतें हुई हैं और...

मैनचेस्टर युनाइटेड की मेजबानी करने में ईस्ट बंगाल को आ रहीं वित्तीय परेशानियां

कोलकाता, 5 फरवरी (आईएएनएस)। इंग्लिश प्रीमियर लीग के फुटबाल क्लब मैनचेस्टर युनाइटेड की मेजबानी करने में भारत के दिग्गज क्लब ईस्ट बंगाल को वित्तीय...

कोविड-19 महामारी के दौरान मानव अधिकारों की हो रक्षा : गुटेरेस

संयुक्त राष्ट्र, 24 अप्रैल (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कोरोनावायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में मानव अधिकारों की रक्षा करने की...
Avatar
R.Kumar
आर.कुमार पिछले 20 वर्ष से सक्रिय पत्रकारिता से जुड़े हुए है। वर्तमान में राष्ट्रीय समाचार एजेंसी के साथ जुड़े हुए है।
- Advertisement -

श्रीगंगानगर/घड़साना/सूरतगढ़। देशभर में 21 जून 2020 के वलयाकार सूर्यग्रहण (Kankan solar Eclipse2020) (Surya Grahan 2020) को सबसे पहले और स्पष्ट राजस्थान (Rajasthan)के श्रीगंगानगर जिले के नई मंडी घड़साना, अनपूगढ़, सूरतगढ़ (Suryagrahan in Gharsana, Anupgarh and Suratgarh in Sri Ganganagar District) तहसील क्षेत्र में ही पूर्णरुप से देखा जा सकेगा। जहां सूर्य का मात्र एक प्रतिशत हिस्सा ही नजर आएगा और कंगन जैसी आकृति साफ नजर आएगी। प्रदेश के लोग 21 जून को संभवतः अपने जीवन में पहली बार (First Time) वलयाकार सूर्य ग्रहण (Annular Eclipse) देख सकेंगे जबकि कुछ लोगों की पिछली सदी की 25 वर्ष पुरानी, 24 अक्टूबर 1995 की यादेें ताजा हो जाएंगी जब पूर्ण सूर्य ग्रहण के कारण दिन में ही अंधेरा छा गया था, पंछी अपने घोंसलों की ओर लौट आए थे और हवा अचानक शीतल हो गई थी। चांद की ओट से निकली सूरज की मुद्रिका तब पूरे विश्व में चर्चा का विषय बनी थी। 21 जून 2020 को होने वाली इस अद्भुत, खूबसूरत और प्रकृति के रोमांच का अनुभव कराने वाली धटना की शुरूआत 5 जून को ही चंद्रग्रहण के साथ हो गई है।

Surya Grahan 2020: सूर्य ग्रहण के दौरान क्या करें और क्या ना करें, यंहा जाने

- Advertisement -

बी.एम.बिड़ला तारामण्डल (B.M.Birla Planetarium) के सहायक निदेशक संदीप भट्टाचार्य ने बताया कि 21 जून को भी राजस्थान फिर इस नजारे का गवाह बनने जा रहा है जब ग्रहण की छाया राजस्थान में करीब सुबह 10ः15 बजे सूरतगढ के घडसाना से प्रवेश करेगी एवं करीब तीन घंटे तक सम्पूर्ण प्रदेश में इसे देखा जा सकेगा। उन्होंने बताया कि इस बार 1995 के पूर्ण ग्रहण की भांति सूर्य के ग्रहण मुक्त होते समय मुद्रिका का निर्माण नहीं होगा लेकिन सूर्य के वलय पर चंद्रमा का पूरा आकार नजर आएगा यानी किनारों पर चमक लिए केन्द्रीय भाग पूरा काला नजर आएगा।

केंद्रीय राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने सूर्यग्रहण पर संविधान के कर्तव्य वैज्ञानिक दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए खगोल वैज्ञानिकों को किया आंमत्रित

उन्होने बताया कि उत्तरी राजस्थान में करीब 20 किलोमीटर की पट्टी में सूर्य का 99 प्रतिशत हिस्सा ग्रहण में नजर आएगा। शेष राजस्थान के लोगों को आंशिक सूर्य ग्रहण दिखेगा। उन्होंने बताया कि जयपुर में चंद्रमा सूर्य के 88 प्रतिशत हिस्से को कवर किया हुआ दिखाई देगा जबकि बांसवाड़ा में 77 प्रतिशत, जोधपुर में 89 प्रतिशत एवं गंगानगर में 97 प्रतिशत सूर्य चंद्रमा की ओट में नजर आएगा।

सूर्य ग्रहण कब और कहां दिखेगा

रविवार को सूर्य ग्रहण सुबह करीब 10:20 बजे शुरू होगा और दोपहर 01:49 बजे खत्म होगा। इसका सूतक 12 घंटे पहले यानी 20 जून को रात 10:20 पर शुरू हो जाएगा जो ग्रहण के साथ ही खत्म होगा। ये ग्रहण भारत, नेपाल, पाकिस्तान, सऊदी अरब, यूएई, इथिपिया और कांगो में दिखाई देगा।

- Advertisement -

इन राशियों के लिए रहेगा शुभ, अशुभ

12 में से 8 राशियों के लिए अशुभ रहेगार, अशुभ वृष, मिथुन, कर्क, तुला, वृश्चिक, धनु, कुंभ और मीन सामान्य मेष, मकर, कन्या और सिंह।

राजस्थान में भी दिखेगा वलयाकार सूर्य ग्रहण 21 जून को, अब लुभाएगा सुनहरा कंगन

अब घर के नजदीक मिलेगा रोजगार: लघु उद्योग भारती के पोर्टल पर करा सकेंगे पंजीयन

- Advertisement -

किसानों के लिए खुशखबरी ! देशभर में 31 जुलाई से पहले रजिस्ट्रेशन कराने वालों को इस स्कीम का मिलेगा लाभ

www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.

- Advertisement -

Latest article

बिहार में बाढ़ की आशंका को लेकर अलर्ट, बचाव के लिए होगा ड्रोन का उपयोग

पटना, 8 जुलाई (आईएएनएस)। बिहार में बाढ़ की आशंका को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आपदा प्रबंधन विभाग को पूरी तरह अलर्ट रहने...

रीवा के सौर ऊर्जा संयंत्र से दिल्ली मेट्रो को मिलेगी बिजली

भोपाल, 8 जुलाई (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के रीवा जिले में स्थापित एशिया के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर प्रोजेक्ट की...

कानपुर मुठभेड़ पर बोले एडीजी प्रशांत, पुलिस की कार्रवाई बनेगी नज़ीर

लखनऊ 8 जुलाई (आईएएनएस)। कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव मे उत्तर प्रदेश पुलिस के सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद...

कभी कभी कड़वा घूंट पीकर करनी पड़ती है समाज सेवा : विजयवर्गीय

भोपाल/इंदौर 8 जुलाई (आईएएनएस)। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए नेताओं के साथ काम करने का जिक्र करते...

पहले एलएसी तक पहुंचने में 14 दिन लगते थे, अब महज 1 दिन : लद्दाख स्काउट्स (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

लेह, 8 जुलाई (आईएएनएस)। वर्ष 1962 में जहां भारतीय सेना को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) तक पहुंचने में 16 से 18 दिन का समय...