अजमेर डेयरी में यौन शोषण की शिकार हुई महिला, अध्यक्ष सहित तीन पर मुकदमा दर्ज

Femal victim of sexual abuse in Ajmer Dairy

अजमेर। प्रदेश में दुष्कर्म की घटनाअेां पर रोक लगाने में पुलिस व प्रशासन पूरी तरह से नाकाम साबित हो रहे है। इसका ताजा उदाहरण अजमेर में देखने को मिला है। यंहा यौन शोषण के बाद पीडि़ता ने अपनी नौकरी भी छोड़ दी। हम बात कर रहें है अजमेर डेयरी की, जंहा एक पीडि़ता ने यौन शोषण के बाद अपनी नौकरी भी छोड़ दी। पीडि़ता ने डेयरी के अध्यक्ष, डिप्टी मैनेजर अैार लैब आफिसर पर यौन शोषण का आरेाप लगाया है। पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीप के आदेश से रामगंज पुलिसथाना की टीम ने आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

इन पर लगाया आरोप
पीडि़ता ने पुलिस को लिखित में शिकायत दी कि उसने यौन शेाषण के बाद अपनी नौकरी छोड़ दी। पीडि़ता ने अध्यक्ष रामचंद्र चौधरी, डिप्टी मैनेजर लादूराम जाट और लैब ऑफिसर रमेश मलिक पर यौन शोषण का आरोप लगाया है। पीडि़ता वर्ष 2016 से जुलाई 2019 तक डेयरी में कार्यरत थी। डेयरी की ओर से उसे कॉलोनी में क्वार्टर भी आवंटित किया गया था। काम के दौरान डिप्टी मैनेजर लादूराम उसे परेशान करता था और अश्लील फब्तियां कसता था। धमकी देते हुए कहता था कि नौकरी करनी है तो मुझे और अध्यक्ष रामचंद्र चौधरी को खुश करो। अन्यथा नौकरी से निकाल दिया जाएगा। लादूराम उसके क्वार्टर पर आकर धमकाता था। उसे हैरान परेशान करने के लिए लादूराम ने उसके क्वार्टर पर चोरी की वारदात कराई। उसकी सैलरी की राशि, मोबाइल फोन और अन्य सामान पार करवा दिया। लैब ऑफिसर रमेश मलिक भी लादूराम के कहने पर उसे परेशान करने लगा था।
पीडि़ता ने बताया कि लादूराम और रमेश की शिकायत लेकर 19 जुलाई 2019 को डेयरी अध्यक्ष रामचंद्र चौधरी के चेम्बर में गई थी। चौधरी के पैर छूने के लिए झुकी तो चौधरी ने अश्लील हरकतें शुरू कर दी। इस घटना से उसे लादूराम, रमेश और चौधरी की साजिश का अहसास हो गया। इसके बाद तीनों ने उसे परेशान करना शुरू कर दिया। मजबूरन उसने नौकरी छोड़ दी।
पुलिस ने पीडि़ता की लिखित शिकायत पर भादंसं की धारा 354 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की है।

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

www.hellorajasthan.com से जुड़े सभी अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.