Thursday, July 2, 2020

बीकानेर : छब्बीस साल बाद किसानों को फिर पढ़ सकेंगे ‘मरु कृषक’

Must read

महात्मा गांधी दस्तकार नगर योजना में बढ़ाई आवेदन की अंतिम तिथि

जयपुर। अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त मूर्तिकार पद्म श्री अर्जुन प्रजापति और केबीसी फेम अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त दस्तकार रूमा देवी ने शनिवार...

निधन बाद ऋषि कपूर पर भारत में ऑनलाइन खोज में 7000 प्रतिशत की वृद्धि

नई दिल्ली, 2 मई (आईएएनएस)। दिवंगत बॉलीवुड आइकन ऋषि कपूर ने अपने निधन के बाद भी एक छोटा रिकॉर्ड बना ही दिया! निधन के...

मेलानिया हैप्पीनेस क्लास में छाईं, इवांका अनीता के रचे परिधान में दमकीं

नई दिल्ली, 25 फरवरी (आईएएनएस)। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पत्नी व अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप ने मंगलवार को दिल्ली के एक...

बिहार में कोरोना के 231 नए मरीज, संक्रमितों की संख्या 2968 हुई

पटना, 26 मई (आईएएनएस)। बिहार में मंगलवार को 231 नए कोरोना वायरस संक्रमितों की पहचान की गई, जिससे कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर...
- Advertisement -

कुलपति प्रो. आर. पी. सिंह ने किया ई-संस्करण का विमोचन

बीकानेर(Bikaner News)स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय (Swami Keshwanand Rajasthan Agricultural University) के कुलपति प्रो. आर. पी. सिंह ने सोमवार को कृषि महाविद्यालय द्वारा प्रकाशित त्रैमासिक पत्रिका ‘मरु कृषक’ के ई-संस्करण का विमोचन किया। पत्रिका में देश के विभिन्न क्षेत्रों के पचास से अधिक कृषि वैज्ञानिकों के आलेख प्रकाशित किए गए हैं। महाविद्यालय द्वारा वर्ष 1994 तक इस पत्रिका का प्रकाशन किया जाता था। इसके बाद इसका प्रकाशन बंद था। कुलपति की पहल पर 26 साल बाद इसे पुनः प्रारम्भ किया गया है। लॉकडाउन के कारण वर्तमान में इसका ई-संस्करण विमोचित किया गया है।

- Advertisement -

किसानों के लिए खुशखबरी ! देशभर में 31 जुलाई से पहले रजिस्ट्रेशन कराने वालों को इस स्कीम का मिलेगा लाभ

इस अवसर पर कुलपति ने कहा कि कृषि वैज्ञानिकों के अनुसंधान एवं कृषि संबंधी जानकारी किसानों तक पहुंचे, इसके मद्देनजर यह शुरूआत की गई है। इससे किसानों को तकनीकी मार्गदर्शन प्राप्त होगा। उन्होंने बताया कि इस अंक में केंचुए की खाद तैयार करने, जैविक खेती एवं इसके प्रबंधन, ई-कृषि की संभावनाएं, बीजोपचार, जलवायु परिवर्तन का फसल उत्पादन पर प्रभाव, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, भूमि सुधार के लिए जिप्सम का उपयोग, बीज प्रसंस्करण, डिजिटल प्रौद्योगिकी में आय वृद्धि जैसी जानकारियां संकलित की गई हैं। उन्होंने कहा कि यह पत्रिका विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध रहेगी। साथ ही कृषि विज्ञान केन्द्रों के माध्यम से किसानों तक पहुंचाई जाएगी।

सिर्फ स्वदेशी कंपनियों को मिले MSME का दर्जा

कुलपति ने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में डिजिटलाइजेशन को सर्वाधिक महत्व दिया जा रहा है। इसके मद्देनजर विश्वविद्यालय द्वारा भी ऐसे नवाचार हो रहे हैं। विश्वविद्यालय द्वारा लॉकडाउन के दौरान कृषक एवं विद्यार्थी ई-संवाद, ई-लर्निंग, वेबिनार के माध्यम से प्रशिक्षण जैसे कार्य किए गए। इनसे किसानों को लाभ हुआ है।

- Advertisement -

एकांतवास केंद्र बना मिसाल, संगीत व योग के साथ लोगों को मिल रहा उनकी पसंद का खाना

उन्होंने बताया कि पत्रिका में राज्यपाल कलराज मिश्र, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कृषि मंत्री लालंचंद कटारिया के संदेश, मार्गदर्शन स्वरूप प्रकाशित किए गए हैं। भविष्य में भी अधिक से अधिक तकनीकी जानकारियां संकलित करने का प्रयास किया जाएगा। पत्रिका के प्रधान संपादक तथा कृषि महाविद्यालय के अधिष्ठाता प्रो. आई. पी. सिंह ने बताया कि ‘मरु कृषक’ के माध्यम से तथ्यपरक एवं सटीक तकनीकी ज्ञान किसानों तक पहुंचाया जाएगा। इसके लिए संपादक मंडल का गठन किया गया है।

झारखंड के बाद अब इस राज्य में Zomato घर तक पहुंचाएगी शराब

www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.

- Advertisement -

Latest article

बिहार में वज्रपात से 17 लोगों की मौत

पटना, 2 जुलाई (आईएएनएस)। बिहार में गुरुवार को एकबार फिर आकाशीय बिजली (वज्रपात) गिरने से 17 लोगों की मौत हो गई। हालांकि अपुष्ट खबरों...

राजस्थान : पुलिस के रेस्पोंस टाइम में सुधार आएगा और अपराध नियंत्रण में मदद मिलेगी : मुख्यमंत्री

जयपुर। गश्त को बेहतर बनाने तथा क्विक रेस्पोंस (Police response) के लिए जयपुर शहर पुलिस (Jaipur City Police) को तकनीकी रूप से लैस 194...

कैम्पस फिर से खुलने पर भी छात्र ऑनलाइन पढ़ाई कर सकेंगे : अहमदाबाद यूनिवर्सिटी

अहमदाबाद, 2 जुलाई (आईएएनएस)। कोविड-19 महामारी के बीच, अहमदाबाद यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने वाले छात्र इस साल दिसंबर तक ऑनलाइन कक्षाओं में शामिल होने...

इंग्लैंड के आपसी मैच में दिखा जश्न मनाने का नया तरीका

लंदन, 2 जुलाई (आईएएनएस)। कोरोनावायरस के कारण क्रिकेट में कुछ बदलाव हुए हैं और इसी बीमारी के डर से विकेट लेने के बाद जश्न...

नई दुल्हन का घर का कामकाज ना करना क्रूरता नहीं : दिल्ली हाईकोर्ट

नई दिल्ली, 2 जुलाई (आईएएनएस)। दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा है कि यह पति के परिवार की जिम्मेदारी है कि वह नई दुल्हन को घर...