जोधपुर में अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रयोगशाला स्थापित की जाएगी -चिकित्सा मंत्री

International level food testing laboratory to be set up in Jodhpur - Medical Minister

मिलावटखोरी को रोकने के लिए होगी कठोर कार्यवाही

जोधपुर/जयपुर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा (Health Minister Raghu Sharma) ने कहा कि प्रदेश में संक्रामक रोगों की जांच और अनुसंधान (Research) के लिए जोधपुर में अंतरराष्ट्रीय स्तर (International Level Testing Lab Jodhpur) की सुविधाओं से युक्त प्रयोगशाला तैयार की जाएगी, ताकि नई बीमारियों की तुरंत पड़ताल की जा सके और उन पर नियंत्रण भी किया जा सके। उन्होंने कहा कि सरकार मिलावटखोरी को रोकने और मिलावटखोरों के खिलाफ कठोर कार्यवाही करने पर काम रही है। जल्द ही स्वास्थ्य, रसद और पुलिस विभाग के तत्वाधान में टीम बनाकर कार्यवाही की जाएगी।

डॉ. शर्मा शुक्रवार को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा और आयुर्वेद विभाग की बजट घोषणा, जन घोषणा, मुख्यमंत्री द्वारा निर्देश एवं मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओं की क्रियान्विति के संदर्भ में अधिकारियों से समीक्षा बैठक कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार की कथनी और करनी में अंतर नहीं है। जो सरकार ने वादे किए हैं उन्हें तय समय सीमा में पूरा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सभी घोषणाओं की समीक्षा में उत्साहपूर्वक परिणाम सामने आए हैं। अधिकतर घोषणाओं पर अच्छा काम हुआ है और बजट से पूर्व शेष बचा हुआ काम भी हो जाएगा। 

चिकित्सा मंत्री ने अपने निवास पर आयुर्वेद विभाग की शासन सचिव श्रीमती गायत्री राठौड़ व अन्य उच्चाधिकारियों से घोषणाओं के क्रियान्वयन पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि बजट और जनघोषणाओं से जुड़े कोई भी वादे अधूरे नहीं रहें। जो घोषणाएं वर्तमान में चल रही हैं उन्हें भी उन्होंने तुरंत पूरी करने के निर्देश दिए।

डॉ. शर्मा ने दोपहर को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की बैठक स्वास्थ्य भवन में ली। इसमें अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह, स्टेट हैल्थ एशोरेंस एजेंसी की मुख्य कार्यकारी अधिकारी शुचि त्यागी, एनएचएम के निदेशक नरेश ठकराल, केके शर्मा सहित सभी उच्चाधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना, निशुल्क जांच योजना, विभाग द्वारा निकाली गई भर्ती, जनता क्लिनिक, राजकीय औषधीय परीक्षण प्रयोगशाला, उप स्वास्थ्य केंद्र खोलने, क्रमोन्नत, जिला अस्पताल, ट्रोमा सेंटर खोलने की अब तक प्रगति के बारे में जाना। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा सभी घोषणाओं पर संतोषजनक कार्य हुआ है।

चिकित्सा मंत्री ने शाम को चिकित्सा शिक्षा सचिव वैभव गालरिया व अन्य अधिकारियों के साथ भी बैठक की और घोषणाओं से जुड़ी जानकारी जुटाई। उन्होंने बताया कि सभी मेडिकल कॉलेजों में निशुल्क जांच योजना का दायरा बढ़ाकर 70 से 90 कर दी है। उन्होंने कहा कि पिछले 70 वषोर्ं में 16 मेडिकल कॉलेजेज खुले थे। सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि  है कि पिछले 11 महीनों में 15 मेडिकल कॉलेजों की स्वीकृति हम ले आए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि प्रदेश को ‘निरोगी राजस्थान‘ की श्रेणी में लाकर खड़ा कर सकें।

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.