बीएफआई की गलती के कारण नुकसान नहीं उठा सकते : एआईबीए

Must read

बीकानेर : युवा अपनी शक्ति को पहचाने : डुकवाल

बीकानेर। नेहरू युवा केन्द्र बीकानेर की ओर से युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा आयोजित तीन दिवसीय युवा नेतृत्व एवं सामुदायिक विकास...

यूथ पार्लियामेंट : संपर्क से समर्थन अभियान में युवा उद्यमियों से मिले शेखावत

बीकानेर। भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के यूथ पार्लियामेंट कम्पेन के राष्ट्रीय सह प्रभारी सुरेंद्र सिंह शेखावत ने भाजपा के राष्ट्रव्यापी विशिष्ट जनसंपर्क अभियान...

लुईस के योगदान को वर्षों तक याद किया जाएगा : आईसीसी

दुबई, 2 अप्रैल (आईएएनएस)। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने डकवर्थ लुईस का नियम देने वाले गणितज्ञ टोनी लुईस के निधन पर शोक जताया है।...

आनंदपाल एनकांउटर : बीकानेर, चुरु, नागैार में धारा 144, इंटरनेट सेवाएं भी बंद

बीकानेर। गैंगस्टर आनंदपाल के गांव सांवराद में मंगलवार को राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना व अन्य कई संगठनों ने रैली और श्रद्धांजलि सभा का आह्वान...
- Advertisement -

नई दिल्ली, 30 अप्रैल (आईएएनएस)। भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) द्वारा जारी किए गए बयान का संज्ञान लेते हुए अंतर्राष्ट्रीय मुक्केबाजी महासंघ (एआईबीए) ने साफ कर दिया है कि वह बीएफआई की नियम पालन में की गई असफलता के कारण नुकसान उठाने का जोखिम नहीं ले सकती।

एआईबीए ने एक बयान में कहा, एआईबीए ने बेलग्रेड को 2021 पुरुष विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप की मेजबानी सौंपी है। 2017 में यह टूर्नामेंट भारत को सौंपा गया था और मेजबान शहर करार जनवरी 2019 को हुआ था। करार के मुताबिक, आधी से ज्यादा मेजबानी फीस बची थी जो एक दिसंबर 2019 तक दी जानी थी। लेकिन नई दिल्ली ने मेजबान शहर करार के नियमों का पालन नहीं किया जबकि एआईबीए ने उन्हें कई बार इस संबंध में याद दिलाया और तमाम विकल्प भी मुहैया कराए। एआईबीए के पास अप्रैल 2020 में करार रद्द करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था।

- Advertisement -

उन्होंने कहा, एआईबीए के फैसले के पीछे एक और कारण यह है कि भारत ने 2018 में महिला विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप की मेजबानी की थी, जिसकी दो-तिहाई मेजबानी फीस अभी तक नहीं दी गई है जबकि उस चैम्पियनशिप को 18 महीने हो गए हैं। मेजबानी फीस बीएफआई द्वारा 2018 के ग्रीष्मकाल में दी जानी चाहिए थी।

उन्होंने कहा, एआईबीए ने काफी धैर्य दिखाया और कई रिपेमेंट प्लान पर बात की जिसे लेकर हमें बीएफआई से कभी सम्मान नहीं मिला। जून 2019 तक सर्बिया कहीं से कहीं तक हमारी सूची में नहीं था। मौजूदा स्थिति में एआईबीए बीएफआई द्वारा और ज्यादा नुकसान किए जाने का जोखिम नहीं ले सकती।

एआईबीए ने मंगलवार को मोहम्मद मुस्थासेन ने विश्व चैम्पियनशिप की मेजबानी सर्बिया को देने का फैसला किया था।

–आईएएनएस

- Advertisement -

Latest article

राजसमन्द : नरेगा में कृषि कार्यों को सम्मिलित करने से जिंसों की लागत मूल्य में कमी आएगी- सांसद दीया कुमारी

राजसमन्द। सांसद दिया कुमारी ने दिल्ली में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मिलकर किसानों के कल्याण हेतु विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करते...

श्रीडूंगरगढ़ः लॉकडाउन में विमल भाटी मालजी परिवार ने दो माह का किराया माफ कर पेश की मानवता की मिसाल

बीकानेर। देशभर में कोरोना महामारी के बीच आमजन के सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो रहा है। इसी बीच जिले के श्रीडूंगरगढ़ में...

मेाबाइल यूजर के लिए बड़ी खबरः अब जी भरकर भेज सकेंगे मैसेज, फ्री SMS की लिमिट खत्म

नई दिल्ली। मेाबाइल उपभोक्ताओं के लिए भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) (The Telecom Regulatory Authority of India) ने बड़ी सौगात दी है। जिसमें वे...

बीकानेर से मेड़ता रोड स्पेेशल ट्रेन, जोधपुर-हावड़ा स्पेशल रेल सेवा शुरू

बीकानेर(Bikaner News)। बीकानेर से हावड़ा (Bikaner to Howrah Train) जाने के लिए अब मेड़ता रोड़ से सीधी रेल सेवा मिल (Merta Road to Bikaner...

आवासन मण्डल का बडा तोहफा : कर्मचारियों के लिए लॉंच होगी मुख्यमंत्री राज्य कर्मचारी आवासीय योजना

जयपुर के प्रताप नगर में बनेंगे 2 व 3 बीएचके साइज के 624 फलैट्स जयपुर(Jaipur News)। आवासन (Rajasthan Housing Board scheme) आयुक्त पवन अरोड़ा ने...