‘ओला माइक्रो’ – भारत का सबसे किफायती एसी कैब मात्र 6 रु./किमी में अब जयपुर में भी

olaजयपुर। आवागमन हेतु भारत के प्रमुख मोबाइल ऐप, ओला ने आज अपनी सबसे लोकप्रिय श्रेणी, ‘ओला माइक्रो’ को लाॅन्च किया। ‘ओला माइक्रो’ जयपुर सहित भारत के 6 शहरों में 6 रु. प्रति किमी की दर से किफायती एसी कैब राइड की सुविधा उपलब्ध कराता है। माइक्रो को सभी शहरों में न्यूनतम 20 रु. के बेस किराये एवं 6 रु. प्रति किमी की दर से एकसमान किराया और 1 रु. प्रति मिनट के शुल्क के साथ लाॅन्च किया गया है।

ओला माइक्रो दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरू, चेन्नई, कोलकाता, हैदराबाद व पुणे जैसे प्रमुख शहरों में पहले से ही उपलब्ध है, जहां इसे पिछले फरवरी महीने में लाॅन्च किया गया था और इसे ग्राहकों से असाधारण प्रतिक्रिया प्राप्त हुई है। ओला माइक्रो फ्लीट में डैटसन गो, मारूति अल्टो, हुंडई इयाॅन व अन्य काॅम्पैक्ट कारें शामिल होंगी। मात्र 6 रु. प्रति किमी की दर पर उपलब्ध, ओला माइक्रो भारत का सबसे लोकप्रिय किफायती एसी कैब राइड है।

जयपुर जैसे तेजी से उभरते टायर 2 बाजारों में माइक्रो को लाकर, ओला उन लाखों भारतीयों के लिए एसी कैब राइड को उनकी पहुंच के भीतर उपलब्ध करा रहा है, जो संभवतः इस श्रेणी में अपनी पहली कैब सवारी करेंगे। जयपुर जैसे शहर में जो कि एक लोकप्रिय पर्यटन एवं आर्थिक केंद्र है, किफायती किंतु भरोसेमंद आवागमन विकल्प सीमित रूप से उपलब्ध हैं। ओला माइक्रो ग्राहकों के लिए कम ईटीए (अनुमानित आगमन समय) के साथ एसी कैब राइड उपलब्ध कराता है, जोकि भारत के अधिकांश हिस्सों में 5 मिनट के भीतर हाजिर हो जाता है।

इस अवसर पर, ओला के मुख्य परिचालन अधिकारी, प्रणय जीवराजका ने कहा, ‘‘ओला माइक्रो लाखों लोगों के लिए अभूतपूर्व रूप से किफायती ऐसी कैब यात्रा उपलब्ध करायेगा। 6 रुपए प्रति किमी की दर से, यह शहर के भीतर कैब यात्रा का सबसे किफायती साधन होगा और यह लोगों को ओला के साथ उनका पहला एसी कैब राइड करने में सक्षम बनायेगा। हमें तेजी से बढ़ रहे जयपुर के बाजार से पहले से ही जबरदस्त प्रतिक्रिया मिल रही है और इस शहर में कल के महानगर के रूप में विकास करने की भारी संभावना है। भारतीय ब्रांड के रूप में, हम माइक्रो जैसी खोजपरक, किफायती पेशकश की आवश्यकता को समझते हैं और हमें विश्वास है कि एक अरब भारतीयों के लिए आवागमन साधन उपलब्ध कराने के हमारे मिशन की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम है।’’ हमारे माइक्रो का अभूतपूर्व विकास हमारे शहरों में कम लागत वाले, किफायती मोबिलिटी विकल्पों की आवश्यकता से प्रेरित है। ओला माइक्रो ने अपने लाॅन्च के बाद अपने पहले 3 हफ्तों में ही दैनिक बुकिंग का वह आंकड़ा पार कर लिया, जिसे ओला प्लेटफाॅर्म को छुने में 3 वर्ष लगे।