बीकानेर जिले में मिले पोटाश के भंडार, प्रतिवर्ष 10 हजार करोड़ का होगा निर्यात: मेघवाल

0
Potash reserves found in Bikaner district, 10 thousand crore will be exported every year: Meghwal

बीकानेर। भारी उद्योग एवम् सार्वजनिक उपक्रम तथा संसदीय कार्य राज्यमन्त्री एवम् क्षेत्रीय सांसद अर्जुनराम मेघवाल (State Union Minister Arjun Ram Meghwal) ने कहा कि बीकानेर संभाग में पोटाश (Potash) के प्रचूर मात्रा में भंडार मिले है,। पूरी दुनियां में जितना पोटाश पाया जाता है उसका पाचं गुणा से अधिक अकेले बीकानेर जिले में ही पाया गया है। भारी उद्योग एवम् सार्वजनिक उपक्रम तथा संसदीय कार्य राज्यमन्त्री एवम् क्षेत्रीय सांसद अर्जुनराम मेघवाल रविवार को संवाददाताअेां से बातचीत कर रहे थे।

केंद्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने 2015 एमएमडीआर एक्ट में एमेंडमेंट किया गया, जिसमें कहा गया था कि कंही भी खनिज है और उसकी खोज में कोई पुरानी तकनीक में कोई रुकावट पैदा हो रही है या फिर उपयेागी नही है तो उसकी खोज के मामले में पीपीटी मोड अपनाया जा सकता है। इसके लिए रसियन तकनीक है उसे स्पेस टैक्नोलाजी भी कहा जाता है उसमें इंप्रेशन आते है, जिस तरह अगर कहीं तेल है तो उसके लिए कुंआ खोदना पड़ता है उसी तरह से यंहा पर पेाटाश के भंडार है तो उसके लिए जो तकनीकी विदेशों में प्रयोग की जाती है, उसका इस्तेमाल यंहा भी किया गया है। इस तकनीक के जरिये किसी भी खनिज को पानी में घुलनशील बनाया जा सकता है। यह भारतीय तकनीक के माध्यम से नही किया जा सकता था। इसे करने के लिए एमएमडीआर एक्ट में संशोधन के बाद काम में आई तेजी के बाद इसे बीकानेर जिले के लूणकरनसर, खाजूवाला, श्रीडूंगरगढ़ व बीकानेर के आसपास के क्षेत्र में पोटाश के प्रचूर भंडार मिले है। इस तकनीक से मिले पोटाश का लाभ यह होगा कि इससे 10 हजार करोड़ का पेाटाश निर्यात प्रतिवर्ष (Potash Import)किया जायेगा।

केंद्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि इससे यंहा पर चार तरह की इंडस्ट्री स्थापित हेागी और रोजगार के अवसर भी बड़े पैमाने पर सृजित हेांगे। पोटाश का उपयेाग न केवल फर्टिलाइजर में उययोग किया जायेगा, इसका इस्तेमाल ग्लास, कैमिकल और एक्सप्लोजिव इंड्रस्ट्रीज में बहुतायत उपयेाग होगा। इसके लिए बीकानेर अब पोटाश इंड्रस्टीज का हब बन जायेगा। इसके लिए यंहा पर फर्टिलाइजर, ग्लास और कैमिकल और एक्सप्लोजिव इंडस्ट्रीज विकसित हेागी।

उन्होेने कहा कि बीकानेर जिले के स्थानीय लोगोां को रोजगार मिलेगा और उन्हे बाहरी क्षेत्रों में काम करने नही जाना पड़ेगा। इसके साथ ही जो लोग बाहरी क्षेत्र के है और उनके पास तकनीकी ज्ञान है उनको भी यंहा पर रोजगार मिल सकेगा। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार होगा और इसमें बीकानेर का येागदान बड़ा हेागा। टैक्नोलोजिलकल चेंज बड़े पैमाने पर तेजी से आया है। संसार में जिस तरह से स्पेश तकनीक से इमेज लेते है और इसी तकनीक से इमेज लेकर जिलेभर में कई जगहों को चिन्हित कर लिया गया है। इसी के आधार पर प्रारंभिक प्री फिजिकल रिपेार्ट बनेगी इसके बाद बड़ी कंपनियों के साथ एमओयू हेागा।

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.