अगले पांच दिनों में हल्की बारिश की संभावना

एसकेआरयू के ग्रामीण कृषि मौसम सेवा केन्द्र ने किसान भाईयों के लिए जारी की सलाह
बीकानेर। भारतीय मौसम विज्ञान केन्द्र, नई दिल्ली एवं जयपुर से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर बीकानेर जिले में आगामी पांच दिनों मे हल्की बारिश होने की संभावना है। साथ ही अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान मे वृद्घि होने तथा सापेक्षिक आद्र्रता मध्यम रहने, आकाश मे बादल छाए रहने की संभावना है।
स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय के ग्रामीण कृषि मौसम सेवा, कृषि अनुसंधान केन्द्र के तकनीकी अधिकारी डॉ. नरेन्द्र कुमार पारीक ने बताया कि उपरो€त मौसम के पूर्वानुमान के आधार पर बारिश होने की संभावना है, इसे ध्यान रखते हुए जिले के किसान भाइयों को सलाह दी जाती है कि भविष्य के लिए पानी बचाएं, अनावश्यक रूप से जायद फसलों में सिंचाई नहीं करें। अभी तक भी खेत में खड़ी फसलों जैसे देरी से बोई गई गेहूं आदि में बारिश से होने वाले नुकसान को कम करने और उत्पाद की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए जितनी जल्दी हो सके की कटाई करके सुरक्षित स्थान पर रखने की व्यवस्था करें। जो फसलें कटाई करने के बाद भी अभी खेत में पड़ी हुई हैं, उनको सुरक्षित रखने या गहाई करके भंडारण की व्यवस्था करें। गहाई की हुई फसलों के भी सुरक्षित भंडारण की व्यवस्था करें। जो किसान अपनी कृषि उपज को मंडी में बेचने के लिए आ रहे है, उन्हे भी उपज को बारिश से बचाने की व्यवस्था के साथ जैसे तिरपाल आदि के साथ आना चाहिए।
इस मौसम मे भेड़ों व बकरियों मे फड़€या ,व टीपीआर और मुर्गियों मे सीआरडी ,व रानीखेत होने की संभावना है। इनसे बचाव के लिए पशु चिकित्सक से मिलकर उचित टीके लगवाएं। शुष्क क्षेत्रों में गर्मियों में हरे चारे की कमी हो जाती है, अत: पंजीकृत पशु चिकित्सक की सलाह से प्रोटीन युक्त, उच्च पोषण वाली यूरिया मोलसेज ईंटों का निर्माण करके पशुओं को खिलाएँ । जून-जुलाई मे पशुओं को हरे चारे की आपूर्ति के लिए पानी की उपलŽधता के आधार पर बाजरा, ज्वार, चवला आदि फसलों की बुवाई करे। फरवरी के अंत मे बुवाई करे हुए हरे चारे वाले बाजरा की प्रथम कटाई (बुवाई के 40 से 55 दिन बाद) मे करें और शेष कटाइयां 30 से 40 दिन के अंतराल पर करें। पशुओं के लिए साफ एवं ताजा पीने के पानी की व्यवस्था करें।