राजस्थान : राज्य सरकार टिड्डी नियंत्रण को लेकर गंभीर-कृषि मंत्री

0
Rajasthan Government, Locust Control in Rajasthan , Tidi dal ke news, Tidi dal in jaisalmer, Today trending news,Today viral news, Google today news, Tourism Hindi News, Rajasthan Hindi News, Rajasthan latest story, latest news ,Jaipur Hindi News, Jaipur Latest News,

कृषि मंत्री ने वीसी के माध्यम से जिला कलक्टर्स के साथ की टिड्डी नियंत्रण की समीक्षा

जयपुर। कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने कहा कि राज्य सरकार सीमावर्ती जिलों में टिड्डी नियंत्रण को लेकर गंभीर है और हरसंभव संसाधन उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने अधिकारियों को पूरी सतर्कता के साथ उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम उपयोग करते हुए टिड्डी नियंत्रण के निर्देश दिए।  श्री कटारिया गुवार को शासन सचिवालय में वीडियो कॉफ्रेंस के माध्यम से प्रभावित क्षेत्र के जिला कलक्टर्स, टिड्डी चेतावनी संगठन एवं कृषि अधिकारियों के साथ प्रभावित क्षेत्र, टिड्डी दल पर निगरानी, सर्वेक्षण एवं प्रबंधन तथा नियंत्रण की समीक्षा कर निर्देशित कर रहे थे।
Rajasthan Government, Locust Control in Rajasthan , Tidi dal ke news, Tidi dal in jaisalmer, Today trending news,Today viral news, Google today news, Tourism Hindi News, Rajasthan Hindi News, Rajasthan latest story, latest news ,Jaipur Hindi News, Jaipur Latest News,कृषि मंत्री श्री कटारिया ने बताया कि प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान की सीमा से सटे बाड़मेर और जैसलमेर जिले टिड्डी से ज्यादा प्रभावित है जहां आठ हजार हैक्टेयर क्षेत्र में कीटनाशक का छिड़काव कर टिड्डी नियंत्रण किया गया है। जालोर जिले में भी दो दिन पहले टिड्डी मिली थी जिसे नियंत्रित कर लिया गया है। श्रीगंगानगर, बीकानेर एवं जोधपुर जिलों में अभी तक कहीं भी टिड्डी आने की सूचना नहीं मिली है, लेकिन सीमा से लगते क्षेत्र में टिड्डी होने के कारण इन जिलों को भी अलर्ट पर रखा गया है और नियंत्रण के लिए पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। उन्होंने बताया कि टिड्डी पर फिलहाल पूरी तरह नियंत्रण है और किसी प्रकार का नुकसान नहीं है। उन्होंने अधिकारियों को जनप्रतिनिधियों के साथ पूर्ण सामंजस्य रखकर टिड्डी नियंत्रण में सहयोग लेने को कहा।
कृषि मंत्री ने बताया कि हमारी पहली प्राथमिकता किसान हित में टिड्डी पर पूरी तरह नियंत्रण करना है। इसके लिए फील्ड स्टाफ, कीटनाशक दवाई के छिड़काव एवं सर्वे के लिए आवश्यक वाहन सहित सभी संसाधन उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। खण्डीय संयुक्त निदेशक को अन्य स्थानों से कार्मिकों को टिड्डी प्रभावित इलाकों में अस्थाई रूप से नियुक्त करने का अधिकार दिया गया है ताकि जरूरत के अनुसार कार्मिकों को लगाया जा सके। उन्होंने अधिकारियों को उपलब्ध संसाधनों का समुचित उपयोग करने के लिए टिड्डी दल की सूचना का पटवारी-ग्राम सेवक स्तर पर वेरिफाई कर कीटनाशक का छिड़काव करने के निर्देश दिए। उन्होंने स्वीकृत वाहनों के लिए संविदा दर शीघ्र तय कर उपयोग में लेना सुनिश्चित करने को कहा।
कृषि विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री पवन कुमार गोयल ने जिला कलक्टर्स को स्थिति की निरंतर मॉनिटरिंग करने और वस्तुस्थिति के अनुसार संसाधनों की जरूरतों से अवगत कराने के निर्देश दिए। उन्होंने टिड्डी चेतावनी संगठन के अधिकारियों से टिड्डी नियंत्राण के लिए पाकिस्तान और गुजरात में हो रहे प्रयासों की जानकारी ली और निर्देशित किया।

कृषि मंत्री ने खाद-बीज, वर्षा एवं फसल बुवाई की समीक्षा की 

कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने वीसी के माध्यम से जिला अधिकारियों से जिलेवार खरीफ आदान व्यवस्था, वर्षा एवं फसल बुवाई की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने खाद-बीज की पर्याप्त उपलब्धता पर संतोष जाहिर करते हुए अधिकारियों को सतत् मॉनिटरिंग करते हुए किसानों को समय पर कृषि आदान उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। उन्होंने सही समय पर बीज वितरण की योजना बनाने के निर्देश दिए ताकि किसान को बीज के लिए कहीं भटकना नहीं पड़े। उन्होंने कहा कि अधिकारी गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें और कहीं से भी शिकायत नहीं मिलनी चाहिए। उन्होंने हनुमानगढ़ जिले में खराब सोलर पम्प शीघ्र सुधरवाने के निर्देश दिए।
अतिरिक्त मुख्य सचिव पवन कुमार गोयल ने फसल प्रदर्शन की पेंडिंग लायबिलिटी पर नाराजगी जाहिर करते हुए सप्लायर्स की समय पर बिल पेश करने की जिम्मेदारी तय करने के निर्देश दिए। सामग्री सप्लाई के 15 के भीतर भुगतान करने के लिए अधिकारियों को पाबंद किया। वीडियो कॉफ्रेंस में कृषि आयुक्त डॉ. ओमप्रकाश, कृषि विभाग के संयुक्त शासन सचिव एसपी सिंह, कृषि मंत्री के विशिष्ट सहायक विभू कौशिक सहित विभागीय अधिकारी मौजूद थे।
www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुकट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.