Top

ब्यावर-गोमती फोरलेन निर्माण हेतु केंद्र सरकार ने मांगी 601 करोड़ की निविदाएं

ब्यावर-गोमती फोरलेन निर्माण हेतु केंद्र सरकार ने मांगी 601 करोड़ की निविदाएं

जयपुर। वर्षों पुरानी और बहुप्रतीक्षित ब्यावर गोमती फोरलेन (Beawar Gomti Fourlane)परियोजना शुरू होने के पूर्व अपने अंतिम चरण में सफर कर रही है। पिछले दिनों ही राजसमन्द सांसद दीयाकुमारी (MP Diya Kumari)के अथक प्रयासों से केंद्र सरकार ने इस योजना को स्वीकृत करते हुए वित्तीय और प्रशासनिक स्वीकृतियां जारी की थी, आज उसी क्रम में केंद्र सरकार ने टेंडर प्रक्रिया जारी करके यह सिद्ध कर दिया कि कोरोना जैसी आपदाएं भी विकास की गति को धीमा नहीं कर सकती है।

मौत के मुहँ में सैंकड़ों जिंदगियां समाते देख राजसमन्द सांसद दीयाकुमारी से रहा नहीं गया और इस जनहित के कार्य को पूरा करने का बीड़ा अपने स्वयं के कंधों पर उठाया। कोरोना महामारी का प्रकोप नहीं होता तो टेंडर कार्य शायद वर्ष की शुरुआत में ही सम्पन्न हो जाता। फिर भी जिस शिद्दत से इस कार्य को पूर्ण कराने के लिए सांसद दीयाकुमारी लगी रही वो राजनीति क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों के लिए मिसाल है।


भारत सरकार के सड़क परिवहन मंत्रालय के क्षेत्रीय कार्यालय के चीफ़ इंजीनियर ने निविदा आमंत्रित करते हुए

नोटिस जारी कर एनएच -58 के ब्यावर गोमती खंड के साथ 4 लेन तक अप-ग्रेडेशन के लिए ईपीसी मोड पर राजस्थान राज्य में पुराना एनएच-8) : (अ) किमी 58.245 से किमी 108.600 तक (पैकेज -1) के लिए 319.20 करोड़ तथा

(ब) किमी 108.60 से किमी 144.00 किमी 158.42 से किमी 173.30 (पैकेज -2) तक के लिए 281.73 करोड़ की निविदाएं आमंत्रित की है।

कुल 600.93 करोड़ की निविदाएं आमंत्रित की गई है। मांगी गई निविदाओं में महत्वपूर्ण यह है कि कार्य को 24 माह की अवधि में पूर्ण करने के साथ 5 वर्ष तक रखरखाव करना होगा। टेंडर प्रक्रिया पूर्ण होते ही कार्य शुरू हो जाएगा।

ब्यावर-गोमती खंड के 4 लेन तक के उन्नयन के लिए आरएफपी का कार्य

राजस्थान राज्य में NH-58 (पुराना NH-8) के लिए इंजीनियरिंग, प्रोक्योरमेंट एंड कंस्ट्रक्शन (ईपीसी) कॉन्ट्रैक्ट के जरिए सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय अब इसके लिए पात्र ठेकेदारों से बोलियां आमंत्रित करता है।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और केंद्र की मोदी सरकार का आभार व्यक्त करती हूं। इतनी बड़ी परियोजना का क्रियान्वयन सिर्फ मोदी सरकार में ही सम्भव है। ब्यावर गोमती फोरलेन परियोजना चुनाव पूर्व से ही हमारा संकल्प था। सपने साकार होने में जो खुशी मिलती है, वही खुशी मुझे आज हो रही है। टेंडर प्रक्रिया पूर्ण होते ही युद्ध स्तर पर कार्य शुरू हो जाएगा। जनता की खुशी में ही हम सब की खुशी है। इस सबका श्रेय में जनता जनार्दन को ही देना चाहूंगी। जनता के विश्वास से ही सबकुछ सम्भव हो पाया है।

Next Story
Share it