Top

JOSSA Counseling 2020 : प्रथम राउण्ड की ऑनलाइन रिपोर्टिंग 19 अक्टूबर को शाम 5 बजे तक

JOSSA Counseling  2020 : प्रथम राउण्ड की ऑनलाइन रिपोर्टिंग 19 अक्टूबर को शाम 5 बजे तक

कोटा। देश के कुल 110 कॉलेजों की 50798 सीटों के लिए जोसा द्वारा ज्वाइंट काउंसलिंग (JOSSA Counseling) जारी है, जिसमें जिसमें 23 आईआईटी की 16053 सीटें, 31 एनआईटी की 23506 सीटें, 26 ट्रिपलआईटी की 5643 सीटें एवं 28 जीएफटीआई की 5596 सीटें शामिल हैं। इस ज्वाइंट काउंसलिंग का प्रथम राउण्ड का सीट आवंटन जारी कर दिया गया है। विद्यार्थी जिन्हें प्रथम राउण्ड सीट आवंटन में किसी भी कॉलेज का सीट आवंटन हुआ है, उन्हें 19 अक्टूबर को शाम 5 बजे तक ऑनलाइन रिपोर्टिंग करनी होगी। जोसा द्वारा विद्यार्थियों को ऑनलाइन रिपोर्टिंग का समय काफी कम दिया गया है। ऐसे में विद्यार्थी परेशान हैं।

एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के कॅरियर काउंसलिंग एक्सपर्ट अमित आहूजा के अनुसार ऑनलाइन रिपोर्टिंग के दौरान विद्यार्थियों को सर्वप्रथम अपना प्रोविजनल सीट अलाॅटमेंट लैटर डाउनलोड करना होगा। इसके उपरांत विद्यार्थियों को आगे की काउंसलिंग में जाने के लिए विकल्प देना होगा। विद्यार्थियों को फ्लाॅट व स्लाइड का विकल्प चुनना होगा। इसके उपरांत विद्यार्थियों को आवश्यक दस्तावेजों 10वीं, 12वीं की अंकतालिका, कक्षा 12वीं का प्रमाण पत्र, कैटेगिरी संबंधित दस्तावेज एवं मेडिकल सर्टिफिकेट, कैंसिल चैक की फोटोकाॅपी स्कैन कर अपलोड करनी होगी। अंतिम चरण में विद्यार्थी को सीट असेपटेंस फीस जमा करनी होगी। विद्यार्थी इस फीस को डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग एवं एसबीआई चालान से जमा कर सकता है। जोकि सामान्य, ईडब्ल्यूएस, ओबीसी कैटेगिरी के लिए 35 हजार, एससी-एसटी एवं शारीरिक विकलांग के लिए 15 हजार रुपए रखी गई है। फीस जमा कराने के उपरांत वैरिफिकेशन अथाॅरिटी द्वारा विद्यार्थियों के अपलोड किए गए दस्तावेजों को जांच कर उन्हें आवंटित सीट का कन्फर्मेशन दिया जाएगा। अपलोड किए गए दस्तावेजों में त्रुटि पाए जाने पर विद्यार्थियों को क्वेरी के माध्यम से सूचित किया जाएगा। ऐसे विद्यार्थी जिन्होने जोसा काउंसलिंग में एनआईटी काॅलेजों के विकल्प भरे हैं, उन्हें स्टेट आॅफ एलिजिबिलिटी प्रूफ के तौर पर 12वीं बोर्ड का पास सर्टिफिकेट या मार्कशीट स्कैन कर अपलोड करनी होगी। केवल आईआईटी की काॅलेज च्वाइस भरने वाले विद्यार्थियों को स्टेट आॅफ एलिजिबिलिटी प्रूफ देने की आवश्यक्ता नहीं है। जिन विद्यार्थियों को प्रथम राउण्ड में काॅलेज का आवंटन नहीं हुआ है। उन्हें आॅनलाइन रिपोर्टिंग व सीट असेपटेंस फीस जमा करने की आवश्यक्ता नहीं हैं। उन्हें आगे की काउंसलिंग का इंतजार करना होगा।

20 प्रतिशत फीमेल पूल आवंटन से लड़कियों को फायदा

आहूजा ने बताया कि इस वर्ष जोसा काउंसलिंग में लड़कियों को सुपर न्यूमेरेरी सीटें मिलाकर 20 प्रतिशत फीमेल पूल से सीटें आवंटित की गई। जिससे पीछे की रैंक वाली लड़कियों को भी अपने द्वारा भरी हुई काॅलेज ब्रांच वरीयता सूची के अनुसार शीर्ष आईआईटी की कोर ब्रांचों को चुनने का अवंसर प्राप्त हुआ है। इसी प्रकार ईडब्ल्यूएस का रिजर्वेशन 4 से बढ़ाकर 10 प्रतिशत करने से इस कैटेगिरी वाले विद्यार्थियों को भी गत वर्ष के मुकाबले पीछे की रैंक आने पर भी आईआईटी, एनआईटी काॅलेज सीट का आवंटन हुआ है।

अंडरटेकिंग देनी होगी

ऐसे विद्यार्थी जिन्होने जेईई मेन व एडवांस आवेदन के दौरान अपनी कैटेगिरी ओबीसी एवं ईडब्ल्यूएस भरी हुई है लेकिन, विद्यार्थी 1 अप्रैल 2020 के बाद का प्रमाण पत्र देने के लिए सक्षम नहीं है, तो उन्हें जनरल कैटेगिरी में जाने के लिए वेबसाइट पर दिए गए अंडरटेकिंग फाॅर्मेट को अपलोड करना होगा। इन विद्यार्थियों की आवंटित सीट निरस्त कर दी जाएगी एवं इन्हें काउंसलिंग में आगे के राउण्ड में जनरल कैटेगिरी से सीट प्राप्त की जाएगी।

Next Story
Share it