Top

राजस्थान में 8 जिलों के 33 सरकारी स्कूल हुए क्रमोन्नत

राजस्थान में 8 जिलों के 33 सरकारी स्कूल हुए क्रमोन्नत

जयपुर(Rajasthan News)। पिछले कई दिनों से चल रही सियासी सता संग्राम (Political Crisis) के बीच राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) ने प्रदेश के 8 जिलों के 33 सरकारी स्कूलों की क्रमोन्नति (Government School Upgraded) के आदेश जारी कर दिए हैं। इनमें 14 राजकीय माध्यमिक विद्यालयों को राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में क्रमोन्नत किया गया है, वहीं 19 राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालयों को माध्यमिक विद्यालयों में क्रमोन्नत किया गया है। इन स्कूलों को इसी शिक्षा सत्र 2020-21 से शुरू किया जा सकेगा। राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालयों को माध्यमिक विद्यालयों में क्रमोन्नत किए विद्यालयों में सुविधा के मुताबिक नवीं और दसवीं कक्षा एक साथ शुरू की जा सकेगी। इन स्कूलों में वर्तमान में कार्यरत प्रधानाध्यापक और वरिष्ठ शिक्षकों को उसके विषय के वरिष्ठ शिक्षक के पद पर समायोजन किया जाएगा।

राजस्थान में पंचायत सहायकों को जल्द मिलेगा मानदेय : मुख्यमंत्री

इसी प्रकार राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय में वर्तमान में कार्यरत शारीरिक शिक्षक ग्रेड थर्ड को क्रमोन्नत राजकीय माध्यमिक विद्यालय में शारीरिक शिक्षक के पद पर समायोजित किया जाएगा। क्रमोन्नत होने वाले राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय में कार्यरत शिक्षक ग्रेड थर्ड, लेवल फस्र्ट और लेवल टू के ऐसे अध्यापक जिनके सेटअप में बदलाव हो गया है, उनका समायोजन क्रमोन्नत राजकीय माध्यमिक विद्यालय में उनके विषय के स्वीकृत पद पर समायोजित किया जाएगा। शेष शिक्षक ग्रेड थर्ड लेवल वन और टू के अध्यापकों की प्रविष्ठि शाला दर्पण में 3बी में की जाएगी और यह अध्यापक 6 डी की कार्यवाही होने तक और अन्य शिक्षकों के पदस्थापन होने तक क्रमोन्नत स्कूल में ही कार्य करते रहेंगे।

स्कूल हुए क्रमोन्नत

राजस्थान के 8 जिलों में बीकानेर संभाग के श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ बाड़मेर, चूरू, नागौर, में एक एक स्कूल, डूंगरपुर जिले में तीन स्कूल, झुंझनू में दो और सीकर के 9 स्कूलों को क्रमोन्नत किया गया है।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी : भगवान श्रीकृष्ण के दर्शन-पूजन एवं व्रत से मिलेगी खुशहाली

माध्यमिक से उच्च माध्यमिक में क्रमोन्नत

राजस्थान में 14 राजकीय माध्यमिक विद्यालय, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में क्रमोन्नत किया गया है। विद्यालय क्रमोनयन 2020-21 से प्रारंभ होगा। इनमें सुविधा के मुताबिक 11वीं और 12वीं कक्षा एक साथ शुरू की जा सकेंगी। इन सभी स्कूलों में कला संकाय स्वीकृत किया गया है। कला संकाय के तीन ऐच्छिक विषयों का निर्धारण विद्यार्थियों की आवश्यकता और रुचि को देखते हुए किया जाएगा।

स्वतंत्रता दिवस-2020: राज्यपाल की ओर से जिला मुख्यालयों पर पढ़ा जाएगा संदेश

नवक्रमोन्नत उच्च माध्यमिक विद्यालयों में प्रथम वर्ष में केवल ऐच्छिक विषयों के व्याख्याता ही दिए जाएंगे। अनिवार्य विषयों के लिए व्याख्याता की जगह वरिष्ठ अध्यापक दिए जाएंगे। चूरू, हनुमानगढ़ और झुंझुनू के दो-दो स्कूलों, डूंगरपुर के तीन, सीकर के पांच राजकीय माध्यमिक विद्यालय, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में क्रमोन्नत किया गया है।

कुसुम योजना में सफल किसानों को ‘सोलर प्रोजेक्ट्स‘ के इंस्टालेशन के लिए अफोर्डेबल ब्याज दरों पर ऋण

www.hellorajasthan.com की ख़बरें फेसबुक, ट्वीटर और सोशल मीडिया पर पाने के लिए हमें Follow करें.

Next Story
Share it