Top

बाड़मेर जिले के गुड़ामालानी में जनहित के मुद्दों के लिए ग्रामीण युवाओं की अभिनव पहल

बाड़मेर जिले के गुड़ामालानी में जनहित के मुद्दों के लिए ग्रामीण युवाओं की अभिनव पहल

@ राजू चारण

गुड़ामालानी (बाड़मेर) । शहीदे आजम भगतसिंह की जन्म जयंती पर अनोखी पहल करते हुए विधानसभा क्षेत्र के युवाओं ने राज्य के दोनों प्रमुख दलों के अध्यक्षों और बाड़मेर-जैसलमेर के सांसद और गुड़ामालानी के विधायक और पूर्व विधायक को पत्र लिखकर विधानसभा क्षेत्र गुड़ामालानी से नर्मदा नहर सिंचाई परियोजना, पेयजल,कृषि विज्ञान केंद्र और बीज विस्तार केंद्र, रोडवेज बस सेवा सहित15 प्रमुख मुद्दों से अवगत करवाते हुए समाधान की मांग की हैं।

नर्मदा नहर गुड़ामालानी पेयजल परियोजना को जल्द पूरा करने, नर्मदा नहर सिंचाई परियोजना के विस्तार, जिला मुख्यालय बाड़मेर से गुड़ामालानी तक रोडवेज बस की मांग, कृषि मंडी में किसानों के लिए मूलभूत सुविधाओं की मांग, खनन कम्पनियों में स्थानीय युवाओं को मौका देने , कृषि महाविधालय की मांग और उपखण्ड मुख्यालय पर चिकित्सा सुविधाओं की मांग सहित 15 मुद्दों के समाधान के लिए आलपुरा उपसरपंच प्रतिनिधि दीपाराम पुरोहित, युवा नेता अशोक विश्नोई और अभिनव राजस्थान अभियान के जिला संयोजक सालूराम सियोल चौधरी ने केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री और जिले के सांसद कैलाश चौधरी, कांग्रेस से प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पुनिया, गुड़ामालानी के विधायक हेमाराम चौधरी और पूर्व विधायक लादूराम विश्नोई को पत्र लिखा हैं।

सामाजिक कार्यकर्ता सालूराम चौधरी ने बताया कि 1. विधानसभा क्षेत्र में पेयजल की भयंकर समस्या हैं इसलिए नर्मदा नहर गुड़ामालानी पेयजल परियोजना का कार्य जल्द से जल्द पूरा करवा के योजना में शामिल 178 गावों में जल्द से जल्द जलापूर्ति शुरू की जावे। 2013 में जब इस योजना के लिए गैमन इंडिया कंपनी लिमिटेड नामक कम्पनी के साथ सरकार का MOU हुआ था तो इस योजना को पूर्ण करने की समय-सीमा अप्रैल 2015 थी लेकिन आज दिनांक तक इस योजना का कार्य पूर्ण नहीं हुआ हैं जो शासन और प्रशासन की उदासीनता को उजागर करता हैं।

2. विधानसभा क्षेत्र के मात्र 68 गांव ही नर्मदा नहर सिंचाई परियोजना से जुड़े हुए हैं और लम्बे समय से किसानों की मांग हैं कि नर्मदा नहर परियोजना का अन्य गांवों तक भी विस्तार किया जाये, सरकार के साथ किसानों का इस मुद्दे पर समझौता भी हुआ था लेकिन अब तक सरकार ने नर्मदा नहर विस्तार का कोई फैसला नहीं लिया हैं। नर्मदा नहर विस्तार का कार्य जल्द से जल्द किया जाना चाहिए।

3. गुड़ामालानी में कृषि विज्ञान केंद्र और बीज विस्तार केंद्र के बावजूद सबसे बड़ी कमी कृषि महाविधालय की हंथ इसलिए जल्द से जल्द यहाँ कृषि महाविधालय की स्थापना हो।

4.उपखण्ड मुख्यालय गुड़ामालानी से जिला मुख्यालय बाड़मेर तक सीधी एक भी रोडवेज बस सेवा नहीं हैं अतः निवेदन हैं कि इस संबंध में परिवहन मंत्रालय से अनुमति दिलवा कर जल्द से जल्द रोडवेज बस सेवा शुरू करवाई जाये।

5. उपखण्ड मुख्यालय गुड़ामालानी पर चिकित्सा सुविधाओं का अभाव हैं जिसके कारण आजादी के 73 साल बाद भी ईलाज के लिए क्षेत्र के लोगों को गुजरात जाना पड़ता हैं। उपखण्ड स्तर पर सभी प्रकार के विशेषज्ञ डॉक्टरों की तैनाती हो जिससे क्षेत्रवासियों को गुजरात न जाना पड़े।

6. उपखण्ड मुख्यालय गुड़ामालानी पर सरकारी छात्रावास तो हैं लेकिन सुचारु रूप से कार्यरत नहीं हैं और इनमे मूलभुत सुविधाओं की भी कमी हैं।

7. विधानसभा क्षेत्र में खनन और तेल क्षेत्र में काम रही कंपनियों में स्थानीय युवाओं की सही से भागेदारी सुनिश्चित हो और इन कंपनियों में 70-80 % स्थानीयों युवाओं को रोजगार दिया जाना चाहिए।

8. उपखण्ड मुख्यालय गुड़ामालानी पर न तो अग्निशमन दल का कार्यालय हैं और न ही यहाँ अग्निशमन वाहनों की तैनाती है। पूर्व में मेघा हाईवे पर हुई दुर्घटना में समय पर अग्निशमन वाहन के समय पर न पहुँचने से ड्राइवरों की जलकर मृत्यु हो चुकी हैं , रेगिस्तान क्षेत्र में शामिल इस क्षेत्र में अक्सर ढाणियों में भी आग लग जाती हैं जिससे लाखों का सामान और मवेशी जलकर मर जाते हैं यदि उपखण्ड मुख्यालय पर अग्निशमन वाहनों की तैनाती हो तो नुकसान को कम किया जा सकता हैं अतः अग्निशमन वाहनों की तैनाती की जाये।

9. क्षेत्र से गुजरने वाले मेघा हाईवे(स्टेट सड़क संख्या 28 रामजी का गोल से शेरगढ़) की सड़क जगह जगह से टूट गयी है जिसकी वजह से आये दिन इस मेघा हाईवे पर हादसे होते हैं, टूटी हुई सड़क के बावजूद इस मेघा हाईवे पर टोल वसूली अनवरत जारी हैं। अतः आपश्री से निवेदन हैं कि इस मेघा हाईवे की सड़क का दुरस्तीकरण करने के लिए सरकार से अनुरोध किया जाये और जब तक दुरस्तीकरण नहीं हो पाता हैं तब तक टोल वसूली स्थगित की जावे।

10. बीज विस्तार केंद्र में कृषि विशेषज्ञ का पद रिक्त हैं जिस पर जल्द से जल्द कृषि विशेषज्ञ की नियुक्ति हो जिससे बीजों की नई किस्मों के लिए कार्य हो और इससे किसानों की कृषि उपज बढ़ाने में सहायता होगी।

11. उपखण्ड मुख्यालय पर कृषि विभाग से संचालित कृषि सेवा केंद्र भी नियमित रूप से नहीं खुलता हैं जिससे किसानों को कृषि योजनाओं का लाभ लेने के लिए भटकना पड़ता हैं।

12. कृषि मंडी गुड़ामालानी में किसानों के लिए मुलभुत सुविधाओं का अभाव हैं, किसानों के अनाज-माल की ऑक्शन भी सरकारी नियमानुसार नहीं होती हैं और न ही माल का बिल दिया जाता हैं और सरकारी अधिकारीयों की मिलीभगत से किसान का माल बताकर बिना बिल के ही गुजरात भेज दिया जाता हैं। जिसकी वजह से सरकार को भी राजकोषीय नुकसान भी होता हैं।

13. विधानसभा क्षेत्र में गौचर की भूमि पर हर गाँव में अतिक्रमण हो रहा हैं, गौचर भूमि को अतिक्रमण मुक्त किया जाये। वर्तमान में सरकार चारागाह विकास कार्यक्रम भी चला रही हैं, मेरी आपसे मांग हैं कि सरकार से निवेदन करें कि गौचर भूमि के विकास के लिए चारागाह विकास कार्यक्रम को मनरेगा योजना से जोड़ा जाये और पारदर्शी तरीके से गौचर का विकास सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

14. गुड़ामालानी विधानसभा क्षेत्र तीनों मुख्य कस्बों गुड़ामालानी, धोरीमन्ना और सिणधरी में यातायात व्यवस्था में सुधार किया जाये।

15. भारतीय स्टेट बैंक की शाखाओं में किसानों को न तो पास बुक एंट्री करके दी जाती हैं और न समय पर नई पास बुक दी जाती हैं और न ही जमा निकासी के लिए उचित सुविधा दी जा रही हैं और किसानों को बैंक के बाहर दलालों के पास जाने को मजबूर किया जाता हैं। बैंक अधिकारीयों को किसानों को उचित सुविधा देने के लिए पाबंद कराया जाये।

जनहित के मुद्दों पर पत्र-लिखो अभियान

गांव के सामाजिक कार्यकर्ता सालूराम चौधरी ने बताया कि लोकतंत्र में जनप्रतिनिधि का मुख्य कार्य जनता के मुद्दों को शासन तक पहुंचाना और प्रशासन के मार्फत जनता की समस्याओं का निराकरण करना होता हैं लेकिन बदलते राजनीतिक हालातों में राजनेता जनता के मुद्दों और क्षेत्र में विकास पर ध्यान देने के बजाय अपनी राजनितिक पार्टी के विकास में लगे हुए हैं। शहीदे आजम भगतसिंह जी जन्मजयंती पर हम युवाओं ने मिलकर तय किया हैं कि हम जनहित के मुद्दों पर पत्र-लिखो अभियान चलाएंगे और आने वाले दिनों में क्षेत्र से जुड़े हर मुद्दे के बारे में जनप्रतिनिधियों को पत्र लिखकर उनको अवगत कराएंगे।

Next Story
Share it