Top

आईआईटी-एनआईटी काउंसलिंग 2020: 12 हजार 343 रैंक पर आईआईटी और 9,46,695 पर एनआईटी आवंटित

आईआईटी-एनआईटी काउंसलिंग 2020: 12 हजार 343 रैंक पर आईआईटी और 9,46,695 पर एनआईटी आवंटित

कोटा। देश की आईआईटी, एनआईटी (NIIT AIIT Counselling 2020)समेत 110 संस्थानों की 50 हजार से ज्यादा सीटों के लिए जोसा काउंसलिंग का दूसरे राउण्ड के सीट आवंटन की ऑनलाइन रिपोर्टिंग की अंतिम तिथि 23 अक्टूबर को शाम 5 बजे तक रखी गई है। विद्यार्थी जिन्हें पहली बार इस राउण्ड में प्रथम बार सीट आवंटन हुआ है, उन्हें भी दस्तावेजों को अपलोड कर सीट असेपटेंस फीस जमा कर ऑनलाइन रिपोर्टिंग करना होगा। ऑनलाइन रिपोर्टिंग के दौरान जिन विद्यार्थियों के दस्तावेजों में कमी पाई जाएगी, उन्हें 24 अक्टूबर को शाम 5 बजे तक रेस्पाॅन्स देना होगा। अन्यथा उनकी सीट निरस्त कर दी जाएगी। विद्यार्थी जिन्होनें प्रथम राउण्ड में ऑनलाइन रिपोर्टिंग की है, उन्हें अब आगे के राउण्ड की काउंसलिंग में दोबारा दस्तावेजों को अपलोड करने की आवश्यक्ता नहीं है। उन्हें सिर्फ वेबसाइट पर काॅलेज अपग्रेडेशन को देखना है। इसके साथ ही विद्यार्थी पूर्व में दिए गए काउंसलिंग विकल्प, फ्लाॅट व स्लाइड को बदलकर आगे की काउंसलिंग में जा सकते हैं।

एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट (ALLEN Career Institute) के कॅरियर काउंसलिंग एक्सपर्ट अमित आहूजा के अनुसार द्वितीय राउण्ड सीट आवंटन के आंकड़ों का विश्लेषण करने के बाद सामने आया कि 12 हजार 343 रैंक पर ओपन कैटेगिरी से जेण्डर न्यूट्रल पूल कोटे से आईआईटी की अंतिम सीट का आवंटन हुआ। इसके साथ ही 20 हजार 92 रैंक पर फीमेल पूल कोटे से आवंटित हुई। जोकि आईआईटी जम्मू की मटेरियल साइंस एंड इंजीनियरिंग ब्रांच थी। इसके अलावा 9 लाख 46 हजार 695 रैंक पर जेण्डर न्यूट्रल पूल कोटे से एनआईटी सिक्किम की सिचिल इंजीनियरिंग ब्रांच होम स्टेट कोटे से आवंटित की गई। जेण्डर न्यूट्रल पूल कोटे से ओबीसी की 5263 रैंक, ईडब्ल्यूएस कैटेगिरी की 2222, एससी कैटेगिरी की 2879, एसटी कैटेगिरी की 974 पर क्लोजिंग कैटेगिरी रैंक रही। इसी तरह फीमेल पूल कोटे से ओबीसी की 9078, ईडब्ल्यूएस की 4458, एससी की 3408 एवं एसटी की 978 कैटेगिरी रैंक पर अंतिम आईआईटी का आवंटन हुआ।

सीट विदड्राल के लिए कारण बताना होगा

एक्सपर्ट आहूजा ने बताया कि ऐसे विद्यार्थी जो जोसा काउंसलिंग में अपनी आवंटित सीट से संतुष्ट नहीं हैं और सीट विदड्राल करना चाहते हैं, उन्हें इसके लिए जोसा को सीट छोड़ने का कारण बताना होगा। इन कारण में विद्यार्थी को कौनसा काॅलेज, कौनसी ब्रांच मिलने की उम्मीद थी, इसके साथ ही क्या वर्ष 2020 में उसका किसी अन्य काॅलेज (आईआईटी, एनआईटी छोड़कर) की ब्रांच में एडमिशन हो चुका है और क्या विद्यार्थी वर्ष 2021 में फिर से जेईई मेन की परीक्षा देने का इच्छुक है, के बारे में बताना होगा। विद्यार्थी पांचवें राउण्ड तक अपनी आवंटित सीट से विदड्राल करा सकते हैं। काउंसलिंग शुल्क 2 हजार रुपए काटकर शेष फीस विद्यार्थियों को लौटा दी जाएगी।

Next Story
Share it