दो सगी बहनों ने अपने तीन छोटे बच्चों सहित ट्रेन से कटकर दी जान

0
दौसा/जयपुर। दौसा जिले के महवा में गुरुवार को दो सगी बहनों ने अपने तीन छोटे बच्चों सहित ट्रेन से कटकर जान दे दी। महिलाओं ने बच्चों को छाती से चिपकाया और उन्हें अपने से बांध लिया फिर पटरियों पर लेट गईं। शुरुआती जांच के अनुसार दोनों महिलाओं ने गृह क्लेश से तंग आकर यह कदम उठाया। अजमेर-आगरा रेलवे ट्रैक पर अलवर फाटक से लगभग 200 मीटर दूर दो महिलाओं ने अपने तीन बच्चों सहित ट्रेन से कटकर अपनी जान दे दी। सूचना मिलते ही मण्डावर थानाधिकारी ब्रजेश मीणा मय जाप्ते के घटनास्थल पहुंचे जहां उन्होंने जगह-जगह बिखरे शवों को अस्पताल पहुंचवाया।
अलवर में था ससुराल
पुलिस के अनुसार दोनों मृतका बहनें थीं तथा करौली जिले में टोडाभाीम के खेड़ी की रहने वाली थीं। इनकी शादी अलवर में दो सगे भाइयों से हुई थी। इनका ससुराल लक्ष्मणगढ़ के धरमपुरा पिनान गांव में है। परिवार में आपसी मनमुटाव था तथा गृह क्लेश के कारण दोनों बहनों ने अपने बच्चों के साथ ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी। दोनों बहनें बुधवार रात से घर से गायब थीं। इनके ससुराल वालों ने पीहर वालों को फोन कर यह जानकारी दी। मौके पर पहुंचे मृतका के भाई ने बताया कि उसकी बहनों की मौत की खबर उसके एक बहनोई ने दी। उसने बस इतना कहकर कि तुम्हारी बहनों ने मंडावर में ट्रेन से कटकर जान दे दी है, फोन काट दिया। मृतकों में हेमा मीणा (30) पत्नी रामेकश मीणा, एक बच्ची करीब पांच माह। पपिता (24) पत्नी राजू मीणा, दो बच्चे हैं।
पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर।   likeकीजिए  hellorajasthan का Facebook पेज।