श्रीगंगानगर को विशेष स्थान नही देने पर क्षुब्ध विधायकों का विधानसभा के बाहर धरना

श्रीगंगानगर को विशेष स्थान नही देने पर क्षुब्ध विधायकों का विधानसभा के बाहर धरना 1जयपुर। प्रदेश की वसुंधरा सरकार द्वारा राज्य के बजट में श्रीगंगानगर को कोई विशेष स्थान नही देने से क्षुब्ध जमींदारा पार्टी की विधायक कामिनी जिन्दल एवं सोना देवी बावरी ने विधानसभा के बाहर धरना दिया। ‘गंगानगर हुआ गंदा नगर आज है- यह कैसा सुराज है’ एवं ‘सड़क नाली और मकान दो – गंगानगर को उसका सम्मान दो’ एवं सौतेला व्यवहार बंद करो- वसुंधरा सरकार शर्म करो, कुछ तो अच्छे कर्म करो’ के जुमले लिखी पट्टिकाएं हाथ में लेकर विधानसभा के बाहर धरने पर बैठी दोनो विधायकों ने वसुधंरा सरकार पर पक्षपात का आरोप लगाया। विधायक कामिनी जिन्दल ने कहा कि उन्होने विधानसभा प्रक्रिया नियमों के तहत विधानसभा में श्रीगंगानगर की समस्याओं को बार बार मजबूती से उठाया लेकिन बहुमत के मद में चूर राज्य सरकार ने राजनीतिक दुभार्वना से एक बार फिर तीसरे बजट में भी श्रीगंगानगर को अछूता रखा है।

विधायक कामिनी जिन्दल ने कहा कि श्रीगंगानगर के एसटीपी निर्माण, सीवरेज निर्माण सहित सभी महत्वपूर्ण प्रोजक्ट को जानबूझकर लटकाया जा रहा है। नगर परिषद को बजट नही दिया जा रहा है। अतिक्रमण हटाये जाने के बाद जिला प्रशासन द्वारा जान बूझ कर निर्माण नही करवाये जाने से शहर की दुर्गति हो रही है। किसानों को उनकी फसल का उचित मुआवजा नही दिया जा रहा है। आज व्यापारी, किसान, छात्र हर वर्ग वसुधंरा सरकार से त्रस्त है। नई शुगर मिल निर्माण भी भ्रष्टाचार की भेंट चढ गया है। सरकारी मशीनरी नकारा हो गई है, जिलाधिकारी जनप्रतिनिधियों का सम्मान नही करते है। इस वसुंधरा सरकार ने तो अंग्रेजो के जमाने की याद दिला दी। लोकतंत्र का अपमान करने वाली वसुंधरा सरकार आज बहुमत के मद में चूर है लेकिन जनता जनार्दन आने वाले विधानसभा चुनावों में धूल चटा देगी।

विधायक सोनादेवी बावरी ने कहा कि शायद श्रीगंगानगर जिले की श्रीगंगानगर और रायसंिहनगर विधानसभाओं में भाजपा के उम्मीदवारों की जमानतें जब्त हो गई थी इसलिए इन क्षेत्रों के साथ भेदभाव किया जा रहा है। परन्तु इस भेदभाव की भेंट तो पूरा जिला ही चढ़ गया है, लगातार तीसरे बजट में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने श्रीगंगानगर जिले को बजट के नाम पर लॉलीपोप दे दी है।