युवा पंजीकरण महोत्सव के तहत बीकानेर पश्चिम राज्य में सर्वोपरि

0

बीकानेर। ‘युवा पंजीकरण महोत्सव’ के तहत युवाओं के पंजीयन में बीकानेर पश्चिम विधानसभा क्षेत्र, राज्य के दो सौ विधानसभाओं में सबसे आगे रहा है। 26 फरवरी तक की प्रगति के आधार पर बीकानेर पश्चिम ने सर्वाधिक लक्ष्य हासिल किया है।
जिला कलक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी वेदप्रकाश ने सोमवार को कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित पेंडिंग पीयूसी की बैठक में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि बीकानेर पूर्व, नोखा और खाजूवाला में भी महोत्सव के तहत अच्छे कार्य हुए हैं। वहीं, लूनकरनसर, कोलायत और श्रीडूंगरगढ़ के युवा पंजीयन में फिसड्डी रहने के कारण उन्होंने तीनों विधानसभाओं के ईआरओ और एईआरओ को 17 सीसीए के तहत नोटिस देने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि जिले में अभियान को 15 मार्च तक बढ़ाया जाएगा। इस दौरान बीएलओ का डोर-टू-डोर संपर्क जारी रहेगा, साथ ही जागरुकता के विविध कार्यक्रम हांेगे।
जिला कलक्टर ने विधानसभा प्रश्नों के जवाब समयबद्ध भिजवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक शाखा में विधानसभा प्रश्न, विषय, तारांकित अथवा अतारांकित, तिथि सहित समस्त सूचनाएं अपडेट रखी जाएं। कार्यालय अधीक्षक, ‘कंट्रोल रजिस्टर’ मेंटेंन करेंगे, जिसमें सभी शाखाओं द्वारा प्राप्त प्रश्नों की सूचना संकलित रहेगी। बैठक के दौरान विभिन्न शाखाओं में लंबित पत्रावलियों की समीक्षा की गई। बैठक में अतिरिक्त कलक्टर (प्रशासन) यशवंत भाकर, अतिरिक्त कलक्टर (नगर) शैलेन्द्र देवड़ा, उपखण्ड अधिकारी नानूराम सैनी, उपविधि परामर्शी रामकिशन शर्मा, कार्यालय अधीक्षक गंगाराम सहित विभिन्न शाखाओं के प्रतिनिधि मौजूद थे।
संपर्क के प्रकरणों की हुई समीक्षा
सोमवार को ही साप्ताहिक समीक्षा बैठक जिला कलक्टर वेदप्रकाश की अध्यक्षता में आयोजित हुई। बैठक के दौरान संपर्क पोर्टल के लंबित प्रकरणों की समीक्षा की गई। अतिरिक्त कलक्टर (नगर) ने बताया कि प्रारम्भिक शिक्षा, नगर निगम एवं जोधपुर विद्युत वितरण निगम के 60 दिनों से ज्यादा सर्वाधिक प्रकरण लंबित हैं। वहीं वेरिफिकेशन के लंबित मामलों में नगर विकास न्यास, नगर निगम, पीएचइडी तथा जोधपुर विद्युत निगम सबसे आगे हैं। उन्होंने कहा कि इनका अविलम्ब निस्तारण सुनिश्चित किया जाए, अन्यथा संबंधित विभाग के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
बैठक के दौरान भामाशाह एवं मुख्यमंत्राी राजश्री योजना की प्रगति, कन्या उपवन के तहत पौधारोपण की स्थिति, जिले में विद्युत एवं पेजयल आपूर्ति व्यवस्था, शहरी गौरव पथ सहित विभिन्न बिंदुओं की समीक्षा की गई। उन्होंने कहा कि प्रत्येक शुक्रवार को ग्राम पंचायत मुख्यालयों पर आयोजित होने वाले पंचायत शिविरों के दौरान ‘कन्या उपवन’ के तहत पौधारोपण किया जाए। बैठक में विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर।   likeकीजिए  hellorajasthan का Facebook पेज।